close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नोएडा अथॉरिटी की नई CEO बनीं रितु माहेश्वरी, पद संभालते ही किया ये ऐलान

 भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी रितु माहेश्वरी को नोएडा अथॉरिटी की नई मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया है. 

नोएडा अथॉरिटी की नई CEO बनीं रितु माहेश्वरी, पद संभालते ही किया ये ऐलान
फाइल फोटो. फेसबुक

नोएडा: भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी रितु माहेश्वरी को नोएडा अथॉरिटी की नई मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया है. पद संभालते ही बिल्डर बायर्स की समस्याओं पर बोलते हुए रितु माहेश्वरी ने कहा कि, बहुत सारे फ्लैट है जहां अन डिलीवर फ्लैट्स है. वीकली हम इन समस्याओं को रिव्यू करेंगे. सारे नॉर्म्स के ऑडिट करेंगे. इसके अलावा बहुत बड़ा अमाउंट बिल्डर्स का अथॉरिटी पर बकाया है. हम ये जरूर कोशिश करेंगे कि अथॉरिटी का वो बकाया भी मिले और फ्लैट बायर्स को उनका घर भी हम दिला सके.

माहेश्वरी ने आगे कहा कि, भारत सरकार और प्रदेश सरकार की कोशिश है कि जल संरक्षण पर ध्यान दिया जाए. बिल्डर और बायर्स के भी कई इशू यंहा चल रहे हैं. पूरा प्रयास रहेगा कि जल्द से जल्द अधूरे पड़े प्रोजेक्ट्स को पूरा किया जाए. नए अवैध निर्माण न हो, जितने भी पुराने अवैध निर्माण है उन्हें भी रेगुलेट किया जाए. जितने काम हो रहे है उनकी कोई ऑनलाइन मैपिंग नही है.

उसके लिए भी हम लोग एक मोबाइल एप्प विकसित करेंगे. बिल्डरों को कई हजार करोड़ रुपया बकाया है. अथॉरिटी का रेवेन्यू भी वसूला जाए और जो बायर्स है उनको भी फ्लैट मिले. गाज़ियाबाद में हमने 950 करोड़ की बकाए की आरसी जारी की थी, जिसमे से करीब 200 करोड़ ही रह गया होगा बाकी में या तो पेमेंट आ गयी या स्टेट लग गया या उनकी क़िस्त बन गयी.

जब भी अथॉरिटी से मैप जारी होता है उसमें सभी नॉर्म्स का ध्यान दिया जाता है. अगर कोई इन नॉर्म्स को फॉलो नही करता है तो उस पर करवाई होगी. इंफॉर्मेंट विंग यंहा बनाना है, अगर इनलीगल कंस्ट्रक्शन कहीं होता है तो उस पर कठोर करवाई की जाएगी.

अभी जो टॉप मोस्ट प्रायोरिटी रहेगी वो है सैनिटेशन एंड वाटर conservetion, जितने भी गवर्नमेंट ऑफिस है और भवन है वहां रेन हार्वेस्टिंग के सिस्टम को लगाया जाएगा और जहां ये सिस्टम लगे है वहां उन्हें ठीक किया जाएगा. सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर भी पूरा फोकस रहेगा. प्रयास ये रहेगा कि जो भी यहां अपनी समस्या लेकर आये उसकी रिकॉर्डिंग हो और दिए गए समय मे उसे पूरा भी किया जाए.