राष्ट्रीय शोक के दौरान राज्यपालों की नियुक्ति निंदनीय: रालोद

डॉ. मसूद अहमद व शिवकरन सिंह ने कहा ऐसा करके केंद्र और प्रदेश सरकार ने दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आत्मा को व्यथित करने का कृत्य किया है.

राष्ट्रीय शोक के दौरान राज्यपालों की नियुक्ति निंदनीय: रालोद
फाइल फोटो

लखनऊ: राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने देश में राष्ट्रीय शोक के दौरान कई राज्यों में राज्यपालों की नियुक्ति और विधानसभा सत्र बुलाए जाने पर ऐतराज जताते हुए इसकी निंदा की है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद व राष्ट्रीय सचिव शिवकरन सिंह ने कहा कि देश में एक सप्ताह के लिए राष्ट्रीय शोक घोषित करके विभिन्न प्रदेशों के राज्यपालों की नियुक्ति करना और उप्र में विधानसभा सत्र बुलाया जाना निंदनीय है. 

ऐसा करके केंद्र और प्रदेश सरकार ने दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आत्मा को व्यथित करने का कृत्य किया है, जिसको जनता कभी माफ नहीं करेगी 

उन्होंने कहा कि यदि राज्यपालों की नियुक्ति एक सप्ताह बाद और विधानसभा सत्र दो दिन बाद बुला लिया जाता तो कुछ भी बिगड़ने की आशंका नहीं थी. इससे स्पष्ट होता है कि बीजेपी के दिखाने और खाने के दांत अलग-अलग हैं. 

आपको बता दें कि अटल जी के निधन के बाद केंद्र सरकार ने पूरे देश में 7 दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा कर दी थी. सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर राज्य में सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा की थी. इस अवधि में सभी सरकारी भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज झुके (हाफ मास्ट) रहेंगे. अटल जी के सम्मान में राज्य सरकार ने 17 अगस्त, 2018 का राजकीय अवकाश घोषित किया था.