डॉ. कफील की रिहाई के फैसले पर सपा बोली- कोर्ट का आदेश सत्ता के मुंह पर करारा तमाचा

समाजवादी पार्टी ने ट्वीट किया, ''इलाहाबाद हाईकोर्ट से डॉक्टर कफील खान की तुरंत रिहाई का आदेश दमनकारी और अत्याचारी सत्ता के मुंह पर करारा तमाचा है! दंभी भूल जाते हैं न्यायालय खुले हैं इंसाफ के लिए!''

डॉ. कफील की रिहाई के फैसले पर सपा बोली- कोर्ट का आदेश सत्ता के मुंह पर करारा तमाचा
डॉ. कफील खान.

लखनऊ: डॉक्टर कफील खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से राहत मिलने के बाद विपक्षी पार्टियां योगी सरकार पर हमलावर हो गई हैं. समाजवादी पार्टी ने अदालत के इस फैसले को 'दमनकारी' सत्ता के मुंह पर करारा तमाचा करार दिया है. वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि कोर्ट के फैसले के बाद उन्हें उम्मीद है योगी सरकार डॉ. कफील खान को जल्द रिहा कर देगी.

समाजवादी पार्टी ने ट्वीट किया, ''इलाहाबाद हाईकोर्ट से डॉक्टर कफील खान की तुरंत रिहाई का आदेश दमनकारी और अत्याचारी सत्ता के मुंह पर करारा तमाचा है! दंभी भूल जाते हैं न्यायालय खुले हैं इंसाफ के लिए! राजनीतिक लाभ और नफरत की राजनीति के तहत कार्रवाई करने वाले सीएम माफी मांगें। सत्यमेव जयते!''

इलाहाबाद HC ने डॉ. कफील की तुरंत रिहाई का आदेश दिया, कहा 'गैर-कानूनी तरीके से लगा NSA'

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, ''आज इलाहाबाद हाई कोर्ट ने डॉ. कफील के ऊपर से रासुका हटाकर उनकी तत्काल रिहाई का आदेश दिया. आशा है कि यूपी सरकार डॉ कफील खान को बिना किसी विद्वेष के अविलंब रिहा करेगी. डॉ कफील खान की रिहाई के प्रयासों में लगे तमाम न्याय पसंद लोगों व उप्र कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को मुबारकबाद.''

आपको बता दें कि डॉ. कफील खान ने रासुका (NSA) के तहत हिरासत में लिए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. बीते 11 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने कफील की याचिका पर सुनवाई करते हुए आदेश दिया था कि इलाहाबाद हाई कोर्ट रासुका के संबंध में लंबित उनकी बीवी की याचिका पर 15 दिन में सुनवाई पूरी करे.

उत्तर प्रदेश में अब सिर्फ रविवार बंद रहेगा बाजार, बाकी दिन सुबह 9 से रात 9बजे तक खुलेंगी दुकानें

आपको बता दें कि डॉ. कफील पर  नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध के दौरान अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगा था. उन्हें यूपी एटीएस ने मुंबई से गिरफ्तार किया था. आजमगढ़ पुलिस ने कफील पर रासुका  (National Security Act) के तहत कार्रवाई  की थी. उन्हें मथुरा जेल में रखा गया था. फिलहाल वह मथुरा जेल में ही बंद हैं. कोर्ट के आदेश के बाद उनकी रिहाई का मार्ग प्रशस्त हो गया है. 

WATCH LIVE TV