चित्रकूट: पत्नी की लाश को ठिकाने लगाने गया था सपा नेता, खुद ही डूबा

सपा नेता का अभी तक सुराग नहीं लग पाया है. जिसे लेकर शुक्रवार को भी एसडीआरएफ का तलाशी अभियान जारी रहेगा.  

चित्रकूट: पत्नी की लाश को ठिकाने लगाने गया था सपा नेता, खुद ही डूबा
शुक्रवार को भी एसडीआरएफ का तलाशी अभियान जारी रहेगा.

चित्रकूट: चित्रकूट (Chitrakoot) जिले में बरुआ डैम में लापता समाजवादी पार्टी के नेता भरत दिवाकर की पत्नी मीनू उर्फ नमिता के शव को एसडीआरएफ की टीम ने बरामद कर लिया है. हालांकि, सपा नेता का अभी तक सुराग नहीं लग पाया है. जिसे लेकर शुक्रवार को भी एसडीआरएफ का तलाशी अभियान जारी रहेगा.

दरअसल, शंकर बाजार निवासी भरत दिवाकर अपनी पत्नी समेत मंगलवार देर रात से लापता थे. लेकिन, बुधवार की सुबह शिवरामपुर चौकी क्षेत्र के बरुआ डैम में लावारिस हालत में उनकी गाड़ी खड़ी मिली. जिसके बाद एएसपी भारी पुलिस बल व गोताखोरों के साथ मौके पर पहुंचे.

जांच में सामने आया कि 15 जनवरी को सपा नेता भरत दिवाकर अपनी पत्नी मीनू की हत्या कर अपने सहयोगी रामसेवक निषाद के साथ बरुआ डैम में शव को ठिकाने लगाने आए थे. लेकिन, शव पानी में फेंकते वक्त नाव पलट गई. जिससे सपा नेता भरत दिवाकर और सहयोगी रामसेवक पानी में गिर गए.

सहयोगी रामसेवक ने पुलिस को जानकारी दी थी कि वह खुद तैर कर बाहर आ गया. लेकिन भरत दिवाकर पानी में ही डूब गया. जिसके बाद पुलिस सहयोगी रामसेवक द्वारा बताए गए घटनाक्रम के अनुसार गोताखोरों की मदद से शवों की तलाश में जुट गई.

गुरुवार को बनारस से एसडीआरएफ की टीम बुलाई गई तब मीनू का शव बरामद हुआ. घटना के दूसरे दिन एसपी अंकित मित्तल भी घटना स्थल पर पहुंचे और मौका का मुआयना किया. अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चौधरी ने बताया कि एसडीआरएफ की टीम भरत दिवाकर के शव की तलाश में अभियान चलाएगी.

जानकारी के मुताबिक, भरत दिवाकर समाजवादी पार्टी का सक्रिय नेता था और वो काफी प्रभावशाली था. उसके पास बरुआ बांध में मछली पकड़ने का भी ठेका था. भरत पर अपने चाचा की हत्या करने का भी आरोप था. वो वर्ष 2011 में जेल भी गया था. बताया जा रहा है कि वो काफी शातिर दिमाग का था और पत्नी की हत्या की साजिश पहले ही रच चुका था. हालांकि, मीनू की हत्या के कारणों का पता पोस्मार्टम रिपोर्ट के बाद ही साफ हो पाएगा. वहीं, सपा नेता भरत दिवाकर का शव न मिलने से मामला संदेहजनक बन हुआ है.