close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ओवैसी के बाद अब सपा सांसद ने उठाए अयोध्या फैसले पर सवाल, कहा- ...चाहिए थी मस्जिद

समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि फैसला हमारे हक में आया, तो हम अल्लाह का शुक्र अदा करेंगे. अगर फैसला हमारे हक में नहीं आया, तो हिदुस्तान के मुसलमान सब्र से काम लेंगे. 

ओवैसी के बाद अब सपा सांसद ने उठाए अयोध्या फैसले पर सवाल, कहा- ...चाहिए थी मस्जिद
सपा सांसद ने कहा कि मुसलमानों को अयोध्या में मस्जिद चाहिए थी, नाकि वहां पर जमीन. (फाइल फोटो)

संभल: अयोध्या में राम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद संभल में समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने बड़ा बयान दिया है. जी मीडिया से बातचीत में समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हालात को देखते हुए फैसला सुनाया है. हम इस पर फैसले पर सब्र से काम लेंगे. शफीकुर्रहमान बर्क ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन दिए जाने के आदेश पर ऐतराज जताया. उन्होंने कहा कि मुसलमानों को अयोध्या में मस्जिद चाहिए थी, नाकि वहां पर जमीन. उन्होंने कहा कि मुसलमानों को यह भीख की जमीन नहीं लेनी चाहिए.

समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि फैसला हमारे हक में आया, तो हम अल्लाह का शुक्र अदा करेंगे. अगर फैसला हमारे हक में नहीं आया, तो हिदुस्तान के मुसलमान सब्र से काम लेंगे. अयोध्या में राम मंदिर बनाए जाने  के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद संभल लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क जहां एक तरफ हालात के नजरिए से फैसला सही होने की बात कह रहे हैं. वहीं, दूसरी तरफ बर्क इस फैसले के तथ्यों को लेकर नाखुश भी दिखाई दे रहे हैं. 

ये भी देखें-:

सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हालातों को देखकर जो फैसला दिया है, वह ठीक है. फैसला आने से पहले भी हमने कहा था कि फैसला हमारे खिलाफ हो या हमारे पक्ष में इस पर कोई भी प्रतिक्रिया करने के बजाय सब्र से काम लेंगे. बर्क ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन दिए जाने के आदेश पर कहा कि अदालत ने मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन दी है. लेकिन, मैं इससे (मुत्तफीक) संतुष्ट नहीं हूं और मुसलमानों को यह जमीन नहीं लेनी चाहिए. साथ ही बर्क ने कहा कि जो जमीन दी जानी है, वह कौन सी जमीन है और कहां की जमीन दी जानी है, यह नहीं पता है. मुसलमानों को अयोध्या में मस्जिद चाहिए थी नाकि जमीन चाहिए, तो ऐसी स्थिति में मुसलमानों को भीख की ज़मीन नहीं लेनी चाहिए.