मिलिए 'शौकिया किडनैपर्स' से, रोमांच के लिए किया अपहरण तो हवालात का मज़ा भी मिल गया

अपहरण की इस वारदात में हैरानी की बात ये है कि किडनैपर्स ने बच्चे का अपहरण किसी रंजिश में नहीं बल्कि रोमांच के लिए किया गया था.   

मिलिए 'शौकिया किडनैपर्स' से, रोमांच के लिए किया अपहरण तो हवालात का मज़ा भी मिल गया
पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी, 7 वर्षीय हिमांशु (इनसेट).

संभल: यूपी के संभल में दो सगे भाइयों ने अपना शौक पूरा करने के लिए रिश्तेदार के 7 साल के बेटे का अपहरण कर लिया. उसके एवज में फिरौती की मांग की. किडनैपर्स अपने मकसद में कामयाब हो पाते इससे पहले ही पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए महज 6 घंटों में आरोपियों के चंगुल से बच्चे को छुड़ा लिया और आरोपियों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया. अपहरण की इस वारदात में हैरानी की बात ये है कि बच्चे का अपहरण किसी रंजिश में नहीं बल्कि रोमांच के लिए किया गया था.   

दीपोत्सव 2020: सतरंगी संस्कृतियां करेंगी रघुनंदन का स्वागत, अद्भुत होगा नजारा 

क्या है मामला? 
मामला संभल जनपद में बहजोई थाना इलाके के मड़नपुर गांव का है, जहां गांव के निवासी टीकम का 7 वर्षीय बेटा हिमांशु बुधवार को घर से लापता हो गया. इस बीच टीकम के पास किसी शख्स को फोन आया कि उनके बेटे को किडनैप कर लिया गया है. बच्चे को सही सलामत देखना चाहते हो तो 6 लाख कैश का इंतजाम कर लो. यह सुनते ही टीकम के पैरों तले जमीन खिसक गई. टीकम ने इस घटना की पूरी जानकारी पुलिस को दी. 

इस अफसर ने मानी विकास दुबे के एनकाउंटर पर रोने की बात, ऑडियो वायरल

मुठभेड़ में पकड़े गए आरोपी
मामले की जानकारी मिलते ही एसपी यमुना प्रसाद ने पुलिस की तीन टीमें गठित कर तत्काल कार्रवाई के आदेश दिए. एसपी के निर्देश पर बहजोई थाने के एसओ रविन्द्र सिंह ने सर्विलांस और क्राइम ब्रांच पुलिस की मदद से आरोपियों की लोकेशन का पता लगाया. इसके बाद मनोना गांव के जंगल में अपहरणकर्ताओं की घेराबंदी कर मुठभेड़ में दो सगे भाईयों और विकास को गिरफ्तार कर लिया. साथ ही हिमांशु को सकुशल बरामद कर लिया. बता दें कि तीनों आरोपी बदायूं जनपद के जरीफनगर थाना के बस्तोई गांव के रहने वाले हैं. 

सीएम योगी ने धन्वंतरी की प्रतिमा का किया अनावरण, जानें धनतेरस से क्या है कनेक्शन...

शौक के लिए किया अपहरण
इस घटना में हैरान करने वाली कई जानकारी सामने आई है. हिमांशु का अपहरण करने वाला विनोद उसका सगा मौसा और दूसरा आरोपी गुड्डू उसका सगा भाई है. यही नहीं इस साजिश में हिमांशु का सगा तहेरा भाई भी शामिल है. चौंकाने वाली बात ये है कि अपहरण किसी रंजिश में नहीं बल्कि आरोपियों ने अपना शौक पूरा करने और फिरौती में 6 लाख की मोटी रकम मिलने के लालच में किया था. विनोद और गुड्डू अपने इस मकसद में कामयाब हो पाते इससे पहले ही पुलिस ने इस मामले का पर्दाफाश कर दिया. 

WATCH LIVE TV