close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या: मंदिर निर्माण के लिए सनातन धर्म संसद आज, संत समाज करेगा सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ

Sanatan Dharma Sansad: राम मंदिर निर्मण के लिए होने वाले सामूहिक हनुमान चालीसा के पाठ के लिए रामनगरी के संत-धर्माचार्यों के अलावा भारत के कई राज्यों से भी संत-धर्माचार्य अयोध्या पहुंचे रहे हैं

अयोध्या: मंदिर निर्माण के लिए सनातन धर्म संसद आज, संत समाज करेगा सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ
तपस्वी छावनी में इस धर्म संसद का आयोजन किया जा रहा है.

अयोध्या: राममंदिर निर्माण (Ram Mandir Construction ) की बाधाओं को दूर करने के लिए आज (19 सितंबर) को रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में सनातन धर्म संसद का आयोजन होने जा रहा है. तपस्वी छावनी में इस धर्म संसद का आयोजन किया जा रहा है. राममंदिर निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए धर्मसंसद में सामूहिक हनुमान चालीसा ( Hanuman Chalisa) का पाठ कर हनुमान जी से राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने की कामना की जाएगी.

राम मंदिर निर्मण के लिए होने वाले सामूहिक हनुमान चालीसा के पाठ के लिए रामनगरी के संत-धर्माचार्यों के अलावा भारत के कई राज्यों से भी संत-धर्माचार्य अयोध्या पहुंचे रहे हैं. 

इस धर्म संसद का आयोजक और तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास के मुताबिक, राममंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट में नियमित सुनवाई चल रही है. उन्होंने बताया कि धर्मसंसद में सामूहिक हनुमान चालीसा का पाठ कर हनुमान जी से राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने की प्रार्थना की जाएगी. उन्होंने कहा कि  हनुमान जी की कृपा के बिना राममंदिर का निर्माण संभव नहीं है.

लाइव टीवी देखें

आपको बता दें कि बुधवार को अयोध्‍या केस की 26वें दिन की सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सभी पक्षकारों से कहा है कि वे 18 अक्‍टूबर तक अपनी दलीलें समाप्‍त करने की CJI ने मामले में पक्षकारों के मध्यस्थता प्रक्रिया शुरू करने की मांग पर कहा कि अगर 2 पक्ष आपस में मध्यस्थता के माध्यम से विवाद सुलझाने का प्रयास करना चाहते हैं तो वे कर सकते हैं मगर सुनवाई नहीं रुकेगी सुनवाई जारी रहेगी. 18 अक्‍टूबर तक अगर दो पक्षों के बीच मध्यस्थता पर कोई बात बनती है तो वे अपनी रिपोर्ट कोर्ट को दें. मध्यस्थता को लेकर गोपनीयता बनी रहेगी. मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को जानकारी भेज कर बताया था कि कुछ पक्ष इसे जारी रखना चाहते हैं.