close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चित्रकूट में आज सरकार की नीतियों के खिलाफ एक मंच पर दिखेंगे शत्रुघ्न, हार्दिक और संजय सिंह

संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि योगी बाबा प्रधानमंत्री से ट्रेनिंग लेकर सिर्फ धार्मिक मुद्दों को सामने लाते हैं, वह भी केवल चुनावी फायदे और समाज को बांटने के लिए.

चित्रकूट में आज सरकार की नीतियों के खिलाफ एक मंच पर दिखेंगे शत्रुघ्न, हार्दिक और संजय सिंह
इस रैली का मुख्य उद्देश्य सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ चर्चा करके एक व्यापक रणनीति तैयार करना है.

प्रयागराज: केंद्र और राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार की नीतियों के खिलाफ चित्रकूट में बुधवार को एक रैली में भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह मंच साझा करेंगे. संजय सिंह ने मंगलवार (20 नवंबर) को यहां सर्किट हाउस में संवाददाताओं को जानकारी देते हुए कहा कि इस रैली का मुख्य उद्देश्य सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ चर्चा करके एक व्यापक रणनीति तैयार करना है.

उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान भाजपा राजनीतिक मुद्दों, जनता के सरोकार के मुद्दों पर चर्चा नहीं करती, बल्कि गैर मुद्दों को मुद्दा बनाने की कोशिश करती है. सरकार हमें बताए कि वह जनता के बुनियादी मुद्दों पर कब बात करेगी. संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि योगी बाबा प्रधानमंत्री से ट्रेनिंग लेकर सिर्फ धार्मिक मुद्दों को सामने लाते हैं, वह भी केवल चुनावी फायदे और समाज को बांटने के लिए.  

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि दीपावली आई तो सीएम योगी कहते हैं कि हम इतना दिया जलाएंगे कि विश्व रिकार्ड बनेगा. मैं पूछता हूं कि लोगों के घरों में दिए जलना कब शुरू होंगे. उन्होंने कहा कि पिछले 40 सालों में पूरे पूर्वांचल में दिमागी बुखार से 1 लाख 20 हजार लोग मारे गए हैं. उनके घरों के दिये कब जलेंगे.  

वो यहीं नहीं रुके उन्होंने आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने पर योगी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि करदाताओं का पैसा हाईकोर्ट, दीवानी, स्टेशन से लेकर बस स्टैंड तक की फाइलों के रिकार्ड बदलने में खर्च किया जाएगा. फैजाबाद का नाम आपने बदल दिया, कितने नाम आप बदलेंगे. 

आपको बता दें कि अक्टूबर माह में इलाहाबाद के नाम बदलकर प्रयागराज होने की चर्चाएं तेज हुई थी. अखाड़ा परिषद की तरफ से एक प्रस्ताव आया है कि इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया जाए. इस प्रस्ताव पर राज्यपाल राम नाईक ने भी सहमति जताई, जिसके बाद कैबिनेट ने भी इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने पर सहमति जता दी थी.