राम मंदिर पहुंचे शिवसैनिक, नहीं कर सके राम की वंदना तो गाई गणेश आरती

शिवसैनिकों ने मंदिर में भगवान श्री राम की आरती न गाते हुए श्री गणेश और महिषासुर वधनी की मराठी आरतियां गाईं.

राम मंदिर पहुंचे शिवसैनिक, नहीं कर सके राम की वंदना तो गाई गणेश आरती
शिवसैनिकों ने आरती के अंत में जय श्री राम के नारे लगाए. (फोटो साभार: पीटीआई)

मुंबई: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे एक तरफ जहां अयोध्या में सरयू की आरती में सपरिवार शामिल हो रहे हैं तो वहीं उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से मुंबई के अलग-अलग राम मंदिर में आरती में शामिल होने का आह्वान किया था. इसी के तहत कई शिवसैनिक मुंबई के वडाला इलाके में मौजूद प्राचीन राम मंदिर में इकट्ठा हुए. हालांकि उन्होंने इस मंदिर में भगवान श्री राम की आरती न गाते हुए श्री गणेश और महिषासुर वधनी की मराठी आरतियां गाईं.

शिवसैनिकों ने आरती के अंत में जय श्री राम के नारे लगाए. 'मंदिर वहीं बनाएंगे' का संकल्प लेते हुए शिवसेना का नया नारा' हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर फिर सरकार' भी गूंजा. श्री राम के दरबार में "उद्धव जी आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ है" का नारा भी दिया गया. पता हो कि उद्धव ठाकरे राम मंदिर निर्माण के लिए महाराष्‍ट्र से अपने साथ चांदी की एक ईंट लेकर उत्तप्रदेश के अयोध्या पहुंचे हैं, जिसे वह संतों को सौंपेंगे. वहीं, शिवसेना अध्यक्ष के साथ उनकी पत्नि रश्मि ठाकरे और उनके बेटे व शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे भी अयोध्‍या पहुंचे हैं.


अहमदाबाद में राम मंदिर निर्माण को  लेकर हवन-पूजन करते हिंदू धर्मावलंबी. (फोटो साभार: PTI)

अयोध्या में आरती
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शनिवार को अयोध्‍या पहुंचकर साधु-संतों के साथ मुलाकात की. वे 6 बजे सरयू घाट पर आरती में शामिल हुए. इस दौरान उनके साथ उनकी पत्‍नी और बेटे आदित्य ठाकरे भी साथथे. 25 नवंबर को वह सुबह 9 बजे राम जन्मभूमि में रामलला के दर्शन करेंगे. शिवसेना के इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दो ट्रेनों में शिवसैनिक अयोध्‍या पहुंच चुके हैं. पहली ट्रेन शुक्रवार और दूसरी ट्रेन शनिवार  को अयोध्‍या पहुंची है. LIVE UPDATES : उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, 'मुझे आज मंदिर बनाने की तारीख चाहिए'

मैं यहां बार-बार आऊंगा: ठाकरे
भगवान राम की नगरी अयोध्‍या में शनिवार को हलचल तेज हो गई है. यहां राम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर शिवसेना और विश्‍व हिंदू परिषद अलग-अलग कार्यक्रम कर रहे हैं. उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में मराठी शब्दों से अपने भाषण की शुरुआत की. उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि मैं यहां सिर्फ भगवान राम के दर्शन करने आया हूं. अब मैं यहां बार-बार आऊंगा. इस देश का हर हिंदू चाहता है कि जहां भगवान राम का जन्मस्थल है, वहां मंदिर बनना चाहिए. आगे उन्होंने कहा कि याद उसे किया जाता है जिसे हम भूलते हैं. राम लला को हम कभी नहीं भूल सकते. हिंदुत्व हमारे खून में है. हमें आज मंदिर बनने की तारीख चाहिए.