शिवपाल ने स्वामी प्रसाद मौर्य मामले पर पार्टी में मनमुटाव से किया इंकार

उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने बहुजन समाज पार्टी के पूर्व नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की संभावनाओं से इंकार किया और कहा कि पार्टी में किसी प्रकार की खटपट या मनमुटाव नहीं है।

 शिवपाल ने स्वामी प्रसाद मौर्य मामले पर पार्टी में मनमुटाव से किया इंकार

कानपुर: उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने बहुजन समाज पार्टी के पूर्व नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की संभावनाओं से इंकार किया और कहा कि पार्टी में किसी प्रकार की खटपट या मनमुटाव नहीं है।

कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय की बाबत शिवपाल ने कहा कि पार्टी में कौमी एकता दल और अफजाल अंसारी तथा उनके एक अन्य भाई शामिल हुये है। मुख्तार अंसारी पार्टी में शामिल नहीं हुये है। अफजाल अंसारी पहले भी पार्टी में रह चुके है। इस पार्टी के विलय को लेकर समाजवादी पार्टी में कोई अंतर्विरोध नहीं है।

शिवपाल यादव बिठूर परियर चकलवंशी मार्ग पर गंगा नदी पर बने परियर सेतु का उद्घाटन करने आये थे। इस पुल के बन जाने से अब परियर से चकलबंसी होते हुये लखनउ आना जाना आसान हो जायेगा। उनसे बाद में पत्रकारों ने पूछा कि क्या स्वामी प्रसाद मौर्य समाजवादी पार्टी में शामिल हो रहे है इस पर शिवपाल ने कहा कि अभी इस तरह की कोई बातचीत नहीं हुई है।

उन्होंने कहा, ‘मौर्य का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है, इसलिये वह उलजुलूल बातें कर रहे है, उन्हें इलाज की जरूरत है। बहुजन समाज पार्टी ने उन्हें उनकी हैसियत से ज्यादा दे दिया। जहां तक मुख्तार अंसारी की बात है उन्हें पार्टी में शामिल नहीं किया है बल्कि उनके भाई अफजाल अंसारी तथा उनकी पार्टी कौमी एकता दल को पार्टी में शामिल किया गया है।’ कैराना में संतों की रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि संत-महात्मा किसी पार्टी से जुड़े नहीं होते है।