भरोसेमंद नहीं हैं अखिलेश और मायावती, 'बेमेल' है SP-BSP गठबंधन : शिवपाल

शिवपाल ने कहा कि बीएसपी ने 1993 में एसपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के 17 माह बाद ही मुलायम को धोखा दे दिया था. 

भरोसेमंद नहीं हैं अखिलेश और मायावती, 'बेमेल' है SP-BSP गठबंधन : शिवपाल
शिवपाल यादव ने कहा कि वह नहीं चाहते थे कि एसपी में विघटन हो लेकिन चुगलखोरों व चापलूसों ने विघटन करा दिया. (फाइल फोटो)

बलिया (उप्र): प्रगतिशील समाजवादी पार्टी अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने शनिवार को एसपी मुखिया अखिलेश यादव व बीएसपी सुप्रीमो मायावती को 'धोखेबाज' बताया. सहतवार कस्बे के एक कार्यक्रम में शिरकत करने आये शिवपाल ने कहा कि एसपी-बीएसपी गठबंधन 'बेमेल' है. अखिलेश और मायावती भरोसेमंद नहीं बल्कि ‘धोखेबाज’ हैं. दोनों ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को धोखा दिया है. 

शिवपाल ने कहा कि बीएसपी ने 1993 में एसपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के 17 माह बाद ही मुलायम को धोखा दे दिया था. उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते थे कि एसपी में विघटन हो लेकिन चुगलखोरों व चापलूसों ने विघटन करा दिया. 

बड़े भाई रामगोपाल यादव पर एसपी को बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए शिवपाल ने कहा कि रामगोपाल यादव के कारण ही एसपी की लोकसभा व विधानसभा चुनाव में बुरी स्थिति हुई है.

इससे पहले 13 जनवरी (रविवार) को शिवपाल सिंह यादव ने एसपी-बीएसपी के गठबंधन पर हमला करते हुए कहा था कि सीबीआई के डर से यह गठजोड़ तैयार हुआ है. शिवपाल ने कहा था कि वर्ष 1993 में जब सपा-बसपा का गठबंधन हुआ था, उस वक्त दोनों ही पार्टियों पर कोई आरोप नहीं था और ना ही सीबीआई का कोई डर था.

उन्होंने कहा 'आज तो सीबीआई का ही डर है. इस डर की वजह से यह गठबंधन हो रहा है. यह गठबंधन सफल नहीं होगा.'  बता दें हो कि एसपी में उपेक्षा की बात कहकर उससे अलग होने के बाद शिवपाल ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया नाम से अलग पार्टी बनाई है.

(इनपुट - भाषा)