close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस SP विधायक ने 'बहनजी' को बताया 'धोखेबाज', कहा- 'हमारी बदौलत खुला UP में खाता', नहीं तो...

हरिओम यादव ने कहा कि चुनाव के नतीजों के बाद मायावती कह रही हैं कि यादवों मे उन्हें वोट नहीं दिया. उन्होंने कहा कि मैं कहना चाहता हूं यादव वफादार कॉम है, जिसके साथ रहती है वफादारी करती है. उन्होंने बीएसपी को धोखेबाज बताते हुए कहा, सपा का नहीं बल्कि बीएसपी का वोट बीजेपी को चला गया है.

इस SP विधायक ने 'बहनजी' को बताया 'धोखेबाज', कहा- 'हमारी बदौलत खुला UP में खाता', नहीं तो...
सिरसागंज विधानसभा से सपा विधायक और मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव ने मायावती पर जमकर निशाना साधा.

फिरोजाबाद: बीएसपी सुप्रीमो मायावती के बयान पर सिरसागंज विधानसभा से सपा विधायक और मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव का तीखा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को गठबंधन भारी पड़ गया, अगर चुनाव हम अकेले दम पर लड़ते, तो लोकसभा चुनाव में कम से कम 25 सीटे जीतती. बसपा सुप्रीमो मायावती के बयान के बाद समाजवादी पार्टी के सिरसागंज के विधायक हरिओम यादव ने कहा है कि गठबंधन से मायावती को ही फायदा हुआ है. इससे सपा को कोई फायदा नहीं हुआ है. अगर गठबंधन नहीं होता तो बीएसपी पिछली बार की तरह खाता भी नहीं खुलता. 

सिरसागंज से सपा विधायक ने कहा, चुनाव के नतीजों के बाद मायावती कह रही हैं कि यादवों मे उन्हें वोट नहीं दिया. उन्होंने कहा कि मैं कहना चाहता हूं यादव वफादार कॉम है, जिसके साथ रहती है वफादारी करती है. उन्होंने बीएसपी को धोखेबाज बताते हुए कहा, सपा का नहीं बल्कि बीएसपी का वोट बीजेपी को चला गया है. उन्होंने कहा कि बहनजी के वोट ने समाजवादी पार्टी को धोखा दिया. 

उन्होंने कहा कि 22 जनवरी को रैली की थी, रामलीला मैदान में लाखों आदमी थे. उसी दिन हमने हमने घोषणा कर दी थी और लोगों से कहा था कि तारीख नोट कर लेना यह गठबंधन चुनाव के बाद टूटेगा. बहनजी का कोई भरोसा नहीं कब गठबंधन तोड़ दें और समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाएं. उन्होंने कहा जैसा कहा था वैसा ही हुआ. 

लाइव टीवी देखें

सपा विधायक हरिओम यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय समाजवादी पार्टी बहुजन समाज पार्टी का महागठबंधन हुआ और तमाम चुनावी रैलियां भी हुई. लेकिन जब रिजल्ट आया तो बहुजन समाज पार्टी की 10 सीटें और समाजवादी पार्टी की कुल 5 सीटें आई. सपा के अपने ही घर में नुकसान झेलना पड़ा, क्योंकि उनके परिवार के तीन सांसद जो थे वही चुनाव हार गए.