हाथरस मामले में SIT ने बढ़ाई जांच की रफ्तार, जल्द सुलझ सकती है गुत्थी

SIT ने जांच और तेज कर दी है. गांव के लोगों से पूछताछ की जा रही है.पीड़िता के अंतिम संस्कार वाले दिन जो भी गांव वाला घटना स्थल पर मौजूद था, सभी से पूछताछ की जा रही है. SIT ने बयान के लिए गांव के 40 लोगों को पुलिस लाइन बुलाया है.  

हाथरस मामले में SIT ने बढ़ाई जांच की रफ्तार, जल्द सुलझ सकती है गुत्थी
SIT ने बयान के लिए गांव के लोगों को बुलाया

हाथरस: हाथरस मामले की गुत्थी सुलझाने के लिए  SIT ने जांच और तेज कर दी है. गांव के लोगों से पूछताछ की जा रही है.पीड़िता के अंतिम संस्कार वाले दिन जो भी गांव वाला घटना स्थल पर मौजूद था, सभी से पूछताछ की जा रही है. SIT ने बयान के लिए गांव के 40 लोगों को पुलिस लाइन बुलाया है.  

हाथरस कांड की पहेली दिन प्रतिदिन उलझती जा रही है. गैंगरेप से ये मामला अब ऑनर किलिंग पर आ गया है.जहां पहले परिवार लड़की के साथ गैंगरेप का आरोप लगा रहा था, वहीं इस मामले में आरोपी बताए गए चारों युवक इसे ऑनर किलिंग बता रहे हैं. 

हाथरस केस के चारों आरोपियों ने जेल से SP को चिट्ठी लिखी है. जिसमें उन्होंने  लिखा है कि वे निर्दोष हैं. घटना के मुख्य आरोपी संदीप ने बताया है कि पीड़िता के साथ उसकी दोस्ती थी जिससे उसका परिवार नाराज था. आरोपी संदीप का दावा है कि यह पूरा मामला ऑनर किलिंग का है. वह चाहते हैं कि मामले की निष्पक्ष जांच हो. 

चिट्ठी में आरोपी संदीप ने लिखा कि पीड़िता के साथ मुलाकात के साथ मेरी कभी-कभी उससे फोन पर बात हो जाती थी. मेरी यह दोस्ती उसके घर वालों को पसंद नहीं थी. संदीप ने लिखा कि ''घटना के दिन उससे मेरी मुलाकात खेत में हुई थी और उस वक्त उसके साथ उसकी मां और भाई थे. इसके बाद वह अपने घर चला गया था और पशुओं को पानी पिलाने लगा. उसे बाद में गांववालों से पता चला कि उसकी मां और भाई ने हमारी दोस्ती को लेकर लड़की को बुरी तरह पीटा था. इससे उसे गंभीर चोटें आई थीं. मैंने कभी भी उसके साथ मारपीट व गलत काम नहीं किया। इस मामले में लड़की की मां व भाई ने मुझे और तीन अन्य लोगों को झूठे आरोप में फंसा कर जेल भिजवा दिया. हम सभी लोग निर्दोष हैं, हमें न्याय दिलाएं.''