close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केदारनाथ में 20 साल का टूटा रिकॉर्ड, बारिश के साथ बर्फबारी ने बढ़ाई परेशानी

रुद्रप्रयाग (Rudraprayag) में तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश (Rain) से जन जीवन बुरी तरह प्रभावित है. पहाड़ों पर बर्फबारी (Snowfall) शुरू हो गई है तो वहीं, मैदानी इलाकों में रुक-रुक कर बारीश हो रही है. मौसम विभाग (Meteorological Department) की मानें तो सितंबर महीने में 20 साल बाद ऐसी ठंड पर रही है. 

 केदारनाथ में 20 साल का टूटा रिकॉर्ड, बारिश के साथ बर्फबारी ने बढ़ाई परेशानी
पिछले तीन दिनों से यहां लगातार बारिश के साथ बर्फबारी हो रही है.

रुद्रप्रयाग: रुद्रप्रयाग (Rudraprayag) में तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश (Rain) से जन जीवन बुरी तरह प्रभावित है. पहाड़ों पर बर्फबारी (Snowfall) शुरू हो गई है तो वहीं, मैदानी इलाकों में रुक-रुक कर बारीश हो रही है. मौसम विभाग (Meteorological Department) की मानें तो सितंबर महीने में 20 साल बाद ऐसी ठंड पर रही है. 

स्थानीय लोगों का कहना है कि भारी बारिश से फसल भी बर्बाद हो रहे हैं. उधर, ऊंचाई वाले इलाकों के तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है, जिससे केदारनाथ धाम की यात्रा करने वालों को भी पेशानियों का सामना करना पर रहा है. मौसम में अचानक बदलाव से केदारनाथ धाम में दर्शनार्थिंयों की संख्या में भारी कमी देखने को मिल रही है.

ऊंचाई वाले इलाकों के तापमान में भारी गिरावट आने से केदारनाथ, मदमहेश्वर और तुंगनाथ धामों की यात्रा व्यवस्थाओं में तैनात अधिकारियों, कर्मचारियों और व्यापारियों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. केदारघाटी में कोहरा छाने से केदारनाथ के लिए हवाई सेवाओं को उड़ाने भरने में दिक्कतें हो रही हैं. ऊंचाई वाले इलाकों के तापमान में भारी गिरावट आने से भेड़ पालकों ने भी गांवो की ओर रूख कर दिया है.

केदारघाटी के हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में बारिश पिछले तीन दिनों से जारी है. हिमालयी क्षेत्रों में मौसम की दूसरी बर्फबारी होने से सम्पूर्ण केदारघाटी शीतलहर की चपेट में आ गई है. निचले क्षेत्रों में रूक-रूककर हो रही बारिश से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है.

लाइव टीवी देखें

स्थानीय जानकारों की मानें तो लगभग 20 सालों के बाद अक्टूबर माह के शुभारंभ पर सर्दी महसूस हो रही है, जिससे आम जनमानस गर्म कपड़े पहनने को विवश हो गया है. केदारघाटी में अधिकांश समय कोहरा छाने से केदारनाथ के लिए हवाई उड़ाने बार-बार बाधित हो रही हैं. निचले क्षेत्रों में हल्की बारिश होने से रुद्रप्रयाग, गौरीकुंड, गुप्तकाशी,चैमासी मोटरमार्ग अधिकांश स्थानों पर कीचड़ में तब्दील होने से राहगीरों को जान हथेली पर रख कर आवाजाही करनी पड़ रही है.