close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सोनभद्र: पोस्टमार्टम के बाद शव लेने से परिजनों किया इनकार, लिखित आश्वासन के बाद हुए राजी

 शव लेने से इनकार करने के बाद जिला प्रशासन, मृतकों के परिजन और सभी राजनीतिक दलों के बीच हुई. बैठक में हुए फैसले का बाद परिजन शव ले जाने को राजी हुए. 

सोनभद्र: पोस्टमार्टम के बाद शव लेने से परिजनों किया इनकार, लिखित आश्वासन के बाद हुए राजी
जिला प्रशासन ने लिखित आश्वासन दिया, इसके बाद परिजन शव ले जाने को राजी हुए.

सोनभद्र, अंशुमान पाण्डेय: सोनभद्र के घोरावल कोतवाली इलाके के उम्भा गांव में हुए भीषण नरसंहार के बाद परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद शव लेने से इनकार कर दिया है. जानकारी के मुताबिक, शव लेने से इनकार करने के बाद जिला प्रशासन, मृतकों के परिजन और सभी राजनीतिक दलों के बीच हुई. बैठक में यह निर्णय लिया गया पीड़ितों को मुआवजा और जमीन दिए जाने का लिखित आश्वासन दिया जाए, जिसके बाद जिला प्रशासन ने लिखित आश्वासन दिया. इसके बाद परिजन शव ले जाने को राजी हुए. 

क्या बोले जिलाधिकारी
बैठक के बाद जिलाधिकारी ने बताया, मृतकों के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से पांच लाख रुपये और जमीन दिए जाने का आश्वासन दिए जाने के बाद मृतकों के परिजन शव ले जानें के लिए राजी हुए.

लाइव टीवी देखें

 

ये था मामला
सोनभद्र के घोरावल थानाक्षेत्र के उम्भा गांव में जमीन को लेकर उपजा विवाद इतना बढ़ गया कि पूरा इलाका बुधवार दोपहर गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठा. गांव में कई साल पहले आदर्श कोऑपरेटिव नाम से एक ट्रस्ट बना हुआ था, जिसमें कुल 600 बीघा के आसपास जमीन थी. इस कोऑपरेटिव में 2 आईएएस अधिकारी भी शामिल थे. जिन्होंने 2 वर्ष पूर्व लगभग 100 बीघा जमीन स्थानीय प्रधान यज्ञवत भूर्तिया और उसके दोस्त को जमीन बेच दी थी. जिस जमीन पर ग्रामीण कब्जा करके खेती कर रहे थे, बुधवार को ग्राम प्रधान पूरे लाव लश्कर के साथ जमीन पर कब्जा करने पहुंचे और जिसमें दर्जनों की संख्या में रिश्तेदार और समर्थकों के साथ ही 4 असलहे से लैस होकर ग्राम प्रधान खेत पर कब्जा करने पहुंचा. इसी बीच ग्रामीण और ग्राम प्रधान के बीच विवाद हो गया, जिसके बाद ग्राम प्रधान की तरफ से गोलियां और लाठी-डंडे चलने लगे. जिसमे अब तक 10 लोगों की मौत हो गई है.

अखिलेश ने किया ट्वीट
उधर इस मामले में अब राजनीतिक पार्टियों के लोग सक्रिय हो गए इसी के तहत उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर मृतकों के परिजनों को 20 -20 लाख रुपए मुआवजा देने के लिए शासन से मांग की है और कहा है कि अपराधियों के आगे नतमस्तक बीजेपी सरकार में एक और नरसंहार.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने किया ट्वीट
वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट करते हुए कहा है कि भाजपा राज में अपराधियों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि दिनदहाड़े हत्याओं का दौर जारी है सोनभद्र के गांव में भू माफियाओं द्वारा तीन महिलाओं सहित 9 गौड़ आदिवासियों की हत्या ने दिल दहला दिया प्रशासन मुखिया मंत्री सब सो रहे हैं क्या ऐसे बनेगा अपराध मुक्त प्रदेश.