close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सोनभद्र नरसंहार: पुलिस ने 24 लोगों को किया गिरफ्तार, 60 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज

अभी तक जिला अस्पताल में कुल 30 घायल आ चुके हैं, जिनमें 12 लोगों को वाराणसी ट्रामा सेंटर रेफर किया जा चुका है. 

 सोनभद्र नरसंहार: पुलिस ने 24 लोगों को किया गिरफ्तार, 60 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज
उम्भा गांव में जमीन को लेकर उपजा विवाद इतना बढ़ा कि गांव गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठा.

सोनभद्र: सोनभद्र के घोरावल थाना इलाके में जमीनी विवाद को लेकर बुधवार (17 जुलाई) को हुए नरसंहार में पुलिस ने अभी तक 28 लोगों को नामजद और 50 को अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया है. पुलिस ने अभी तक कुल 24 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस नरसंहार में इस्तेमाल किए गए दो असलहो को भी पुलिस ने बरामद कर लिए हैं. जानकारी के मुताबिक, बुधवार को जिला अस्पताल में आए 9 शवों का पोस्टमार्टम करा लिया गया है, जबकि ट्रामा सेंटर पहुंचते समय समय दम तोड़ने वाले शख्स को शव का पोस्टमार्टम वाराणसी में हुआ. 

पुलिस छावनी के रूप में तब्दील हुआ जिला अस्पताल
कई राजनैतिक दल के नेताओं के आने की उम्मीद को देखते हुए इस समय जिला अस्पताल को पुलिस छावनी के रूप में तब्दील कर दिया गया है. वहीं, गांव में भी शांति व्यवस्था को देखते हुए पर्याप्त फोर्स लगाई गई हैं. अभी तक जिला अस्पताल में कुल 30 घायल आ चुके हैं, जिनमें 12 लोगों को वाराणसी ट्रामा सेंटर रेफर किया जा चुका है.

लाइव टीवी देखें

ये था मामला
सोनभद्र के घोरावल थानाक्षेत्र के उम्भा गांव में जमीन को लेकर उपजा विवाद इतना बढ़ गया कि पूरा इलाका बुधवार दोपहर गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठा. गांव में कई साल पहले आदर्श कोऑपरेटिव नाम से एक ट्रस्ट बना हुआ था, जिसमें कुल 600 बीघा के आसपास जमीन थी. इस कोऑपरेटिव में 2 आईएएस अधिकारी भी शामिल थे. जिन्होंने 2 वर्ष पूर्व लगभग 100 बीघा जमीन स्थानीय प्रधान यज्ञवत भूर्तिया और उसके दोस्त को जमीन बेच दी थी. जिस जमीन पर ग्रामीण कब्जा करके खेती कर रहे थे, बुधवार को ग्राम प्रधान पूरे लाव लश्कर के साथ जमीन पर कब्जा करने पहुंचे और जिसमें दर्जनों की संख्या में रिश्तेदार और समर्थकों के साथ ही 4 असलहे से लैस होकर ग्राम प्रधान खेत पर कब्जा करने पहुंचा. इसी बीच ग्रामीण और ग्राम प्रधान के बीच विवाद हो गया, जिसके बाद ग्राम प्रधान की तरफ से गोलियां और लाठी-डंडे चलने लगे. जिसमे अब तक 10 लोगों की मौत हो गई है.