उत्तराखंड: कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में विशेष गश्त, जानवरों में Corona संक्रमण रोकना बड़ी चुनौती

  कोरोना वायरस के कहर से जानवर भी नहीं बच पा रहे हैं. अमेरिका में बाघिन के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद भारत में जानवरों की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाए गए हैं. उत्तराखंड के कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में इन दिनों विशेष गश्त की जा रही है.

उत्तराखंड: कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में विशेष गश्त, जानवरों में Corona संक्रमण रोकना बड़ी चुनौती
फाइल फोटो

कुशाल रावत/रामनगर:  कोरोना वायरस के कहर से जानवर भी नहीं बच पा रहे हैं. अमेरिका में बाघिन के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद भारत में जानवरों की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाए गए हैं. उत्तराखंड के कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में इन दिनों विशेष गश्त की जा रही है. यहां ऐसे वाइल्ड एनिमल को तलाशा जा रहा है जिसमें कोरोना जैसे लक्षण हों.

झिरना रेन्ज अधिकारी प्रशांत कुमार ने बताया कि कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में विशेष गश्त के जरिए कोरोना वायरस को लेकर भारत सरकार की एडवाइजरी का पालन सुनिश्चित किया जा रहा है. हालांकि जानवरों की पहचान के लिए कॉर्बेट में लगे कैमरों की भी मदद ली जा रही है.कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में बाघों को बचाने के लिए और उनकी नियमित गिनती के लिए जगह जगह आधुनिक कैमरे लगे हुए हैं.

आपको बता दें कि न्यूयॉर्क शहर के चिड़ियाघर में एक बाघ को कोरोनो वायरस टेस्‍ट में पॉजिटिव पाया गया था. माना जा रहा है कि उसे कोरोना से संक्रमित किसी कर्मचारी से संक्रमण हुआ. चार साल की उस मादा मलय बाघ का नाम नादिया है, नादिया नाम के इस मलेशियाई टाइगर के साथ तीन अन्य बाघ और तीन अफ्रीकी शेर में भी 'सूखी खाँसी' की शिकायत दर्ज की गई थी.

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड: 4 नए Corona पॉजिटिव केस की पुष्टि, कुल आंकड़ा पहुंचा 35

गौरतलब है कि कोरोना वायरस अभी मानव से मानव में ही ट्रांसफर हो रहा है, अभी तक इस बारे में कोई पुख्ता अध्य्यन नहीं हुआ है कि ये जानवरों में उसी तरह से फैल सकता है या नहीं जैसे इंसानों में फैलता है. हालांकि न्यूयॉर्क की घटना के बाद इसके जानवरों में भी होने की संभावना जताई जाने लगी है. अगर ऐसा होता है तो कोरोना की चुनौती कई गुना बढ़ जाएगी. इंसानों को नियंत्रित करना आसान है, लेकिन जानवरों से इस महामारी के फैलने का खतरा और बढ़ जाएगा.

WATCH LIVE TV: