close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब लखनऊ में अपराधियों की खैर नहीं, अपराध रोकने के लिए तैयार सुपर-30 कॉप

जनपद लखनऊ में अपराध और अपराधियों पर पूरी तरह लगाम लगाने के लिए यह नए फॉर्मूले के तौर पर देखा जा रहा है. 

अब लखनऊ में अपराधियों की खैर नहीं, अपराध रोकने के लिए तैयार सुपर-30 कॉप

लखनऊ: आपने पटना के आनंद की सुपर 30 की उपलब्धियों की कहानी तो कई बार सुनी होगी, अब उस पर फिल्म भी बन करके तैयार हो चुकी है. लेकिन हम बात कर रहे हैं लखनऊ पुलिस की जहां अपराध और अपराधियों को रोकने के लिए सुपर 30 कॉप तैयार करने जा रही है. एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी ने सुपर-30 कॉप टीम बनाने का फैसला लिया है और यह टीम बन कर भी तैयार हो गई है. वहीं सभी CO को भी अपनी 10 पुलिस कर्मियों की टीम बनाने के निर्देश दिए हैं. Ssp लखनऊ कलानिधि नैथानी के मुताबिक सुपर 30 टीम को पूरी तरह से क्राइम पर काम करने का मौका मिलेगा.

सुपर 30 टीम बन कर तैयार हो गई है अब उस पूरे टीम को एक बार फ़िल्टर कर तैयार करने की जरूरत है. जनपद लखनऊ में अपराध और अपराधियों पर पूरी तरह लगाम लगाने के लिए यह नए फॉर्मूले के तौर पर देखा जा रहा है. 

इसकी जरूरत क्यों
- लगातार जनपद में व्यपारियो को निशाना बनाया जा था. 
- अपराधी घटनाएं काफी बढ़ गए थे.
- एक नए फॉर्मूले की जरूरत थी क्राइम कंट्रोल में.
- साइबर क्राइम के कई नए मामले सामने आ रहे हैं. 
लखनऊ जनपद में 4500 पुलिस कर्मी जो 43 थानों में तैनात हैं. 2000 पुलिस लाइन में एक्टिव पुलिस फ़ोर्स है और बाकी तमाम सुरक्षा में लगे हुए हैं.  उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अपराध और अपराधियों पर नजर रखने के लिए सुपर 30 कॉप टीम तैयार की गई है. लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने सभी एएसपी को अपने क्षेत्र के थानों से 30 ऐसे पुलिसवालों को छांटने का निर्देश दिया था. जिनकी क्राइम पर अच्छी पकड़ हो. भले ही पुलिस आंकड़ों के द्वारा यह कहती हुई दिखती है कि क्राइम बहुत हद तक कंट्रोल हुआ है लेकिन लगातार क्राइम के बढ़ते मामले सामने आते रहे हैं.  

क्या खास है इस टीम में
- पुराने अपराधियों पर रखेगी नजर. 
- टीम में अबतक सबसे ज्यादा वारदातों का खुलासा और बदमाशों पकड़ने में शामिल रहे पुलिसवालों को शामिल किया जाएगा. 
-मुखबिरों से संपर्क रखने वाले दरोगा, सिपाही. 
-टीम में सिपाही भी शामिल रहेंगी.
-यह टीम राजधानी में सक्रिय गैंगों और उनके सदस्यों की हर गतिविधियों पर नजर रखेंगी
-बाहर से आने वाले बदमाशों की जानकारी एसएसपी को देंगे. 
-किस तरह का अपराध बढ़ रहा है, इसकी मॉनिटरिंग करने की जिम्मेदारी होगी.
-शहर के उन सभी रास्तों का मैप तैयार करेंगे, जिसका इस्तेमाल अबतक बदमाश वारदात करके भागने में कर चुके हैं.  
-बदमाशों के छिपने के ठिकाने और गैंगों के नाम टीम के हर सदस्य को जुबान पर याद रखना होगा.
-एसएसपी हर सप्ताह एक टीम के साथ बैठकर करके उसकी ओर से जुटाई गई जानकारियों की समीक्षा करेंगे.