close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भ्रष्टाचार के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज के खिलाफ FIR दर्ज करने सुप्रीम कोर्ट का आदेश

सुप्रीम कोर्ट की इन हाउस जांच कमेटी ने जस्टिस शुक्ला को न्यायिक अनियमितता यानि किसी को अनुचित लाभ पहुंचाने के लिए ग़लत तरीक़े से काम करने और ग़लत फ़ैसले सुनाने का दोषी पाया था. 

भ्रष्टाचार के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज के खिलाफ FIR दर्ज करने सुप्रीम कोर्ट का आदेश
फाइल फोटो

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के जज एसएन शुक्ला के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार निरोधक क़ानून के तहत एफ़आइआर दर्ज करने के लिए सीबीआई को मंज़ूरी दे दी है. पिछले महीने इलाहाबाद हाई के जज एसएन शुक्ला को बर्खास्त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने पीएम को दोबारा लेटर भेजा था. इससे पहले पिछले चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने जनवरी 2018 में और अब मौजूदा चीफ जस्टिस रंजन गोगई ने पीएम से आग्रह कर जस्टिस शुक्ला को पद से हटाने के लिए जस्टिस शुक्ला के ख़िलाफ़ संसद में मोशन लाने की मांग की थी.

सुप्रीम कोर्ट की इन हाउस जांच कमेटी ने जस्टिस शुक्ला को न्यायिक अनियमितता यानि किसी को अनुचित लाभ पहुंचाने के लिए ग़लत तरीक़े से काम करने और ग़लत फ़ैसले सुनाने का दोषी पाया था. तब 22 जनवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस शुक्ला से ज्यूडिशियल वर्क छीन लिया था.

सुप्रीम कोर्ट की जांच कमेटी ने यूपी के एडवोकेट जनरल की शिकायत पर पाया था कि जस्टिस शुक्ला ने एक मेडिकल कालेज के हक़ में ग़लत फ़ैसला सुनाया था. ताज़ा हालात में जस्टिस शुक्ला ने सुप्रीमकोर्ट चीफ जस्टिस से मांग की कि उन्हें ज्यूडिशियल वर्क वापस दिया जाए, यह मांग चीफ जस्टिस ने ठुकरा दी थी, साथ ही पीएम को रिमाइंडर भेज जस्टिस शुक्ला को हटाने के लिए संसद में मोशन लाने की मांग की थी.