सीतापुर कुत्तों का आतंक, सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से किया इंकार, अब तक 13 की मौत

सीतापुर में कुत्तों का आतंक कायम है. यह मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने सीतापुर मामले की तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया है.

सीतापुर कुत्तों का आतंक, सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से किया इंकार, अब तक 13 की मौत
केवल खैराबाद थाना क्षेत्र में 10 बच्चों की मौत. (फाइल फोटो)

सीतापुर: सीतापुर में कुत्तों का आतंक कायम है. यह मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने सीतापुर मामले की तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया है. वकील VB बीजू की तरफ से दाखिल याचिका में पीड़ितों के लिए राहत की मांग की गई है. कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के लिए जुलाई में समय दिया है. सीतापुर में अब तक आदमखोर कुत्तों के हमले में 13 बच्चों की मौत हो चुकी है. आदमखोर कुत्तों को पकड़ने के लिए पुलिस-प्रशासन के साथ स्थानीय लोग मुहिम चला रहे हैं. प्रभावित इलाके में संभावित आदमखोर कुत्तों की तलाश की जा रही है. पुलिस की टीम कुत्तों के झुंड को खोजकर संभावित कुत्तों का एनकाउंटर कर रही है.

6 महीने से कुत्तों का आतंक
सीतापुर में कुत्तों का आतंक पिछले 6 महीने से कायम है. लेकिन, अब यह विकराल रूप धारण कर चुका है. पिछले 6 महीने में कुत्तों के काटने से अब तक 13 बच्चों की मौत हो चुकी है. 13 में से 7 बच्चों की मौत केवल मई के महीने में हुई है. कुत्तों के आतंक की वजह से लोग घर से बाहर निकलने में डरने लगे हैं. अब वे अपने साथ हथियार लेकर घूम रहे हैं. सीतापुर की जिला अधिकारी शीतल वर्मा ने बताया कि नवंबर 2017 से अब तक कुत्तों के हमले से 13 बच्चों की मौत हो चुकी है. इनमें से 10 बच्चों की मौत खैराबाद थाना क्षेत्र में हुई, जबकि तीन अन्य मौत इमलिया सुल्तानपुर, कोतवाली सुल्तानपुर और तालगांव इलाकों में हुई है.

सीतापुर : कुत्तों के हमले से एक और बच्ची की मौत, गुस्साए लोगों ने रोका यातायात

पीड़ितों को 2-2 लाख सहायता का ऐलान
इस घटना को लेकर विपक्ष ने योगी आदित्यनाथ पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि सरकार इस गंभीर मसले को नजरअंदाज कर रही है. पिछले हफ्ते सीएम योगी आदित्यनाथ सीतापुर गए थे और उन्होंने कुत्तों के काटने से मारे गए बच्चों के परिजनो से मुलाकत की थी. उन्होंने पीड़ित बच्चों के परिजनो को 2-2 लाख रुपए की सहायता और घायल बच्चों के इलाज के लिए 25 हजार रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी.