close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मानवाधिकार आयोग ने यूपी प्रशासन को जारी किया नोटिस

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में गत नौ अक्तूबर को गोवध की अफवाह के बाद हुई हिंसा की खबरों पर स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य के मुख्य सचिव तथा पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है।

मानवाधिकार आयोग ने यूपी प्रशासन को जारी किया नोटिस

लखनऊ : राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में गत नौ अक्तूबर को गोवध की अफवाह के बाद हुई हिंसा की खबरों पर स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य के मुख्य सचिव तथा पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है।

एनएचआरसी द्वारा शुक्रवार को जारी बयान के मुताबिक आयोग ने मैनपुरी की घटना में मुख्य सचिव आलोक रंजन तथा पुलिस महानिदेशक जगमोहन यादव को नोटिस जारी करके दो हफ्ते में जवाब देने को कहा है।

गत नौ अक्तूबर को मैनपुरी जिले के करहल स्थित नगरिया गांव में कुछ लोगों द्वारा गाय कथित रूप से काटे जाने की घटना से नाराज भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया था। एक पुलिस जीप समेत कई गाड़ियों तथा दुकानों के फर्नीचर को आग लगा दी थी। वारदात में सात पुलिसकर्मी घायल हुए थे। शुरुआती जांच में पता लगा था कि गाय को काटा नहीं गया था बल्कि वह बीमारी के कारण पहले ही मर चुकी थी। आरोपियों ने उसकी खाल उतारी थी।

आयोग ने कहा कि अगर घटना सच्ची है तो वह गम्भीर और मुल्क के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को धक्का पहुंचाने वाली है। राज्य सरकार को इन्हें रोकने के लिये निरोधात्मक और दण्डात्मक दोनों ही तरीके के कदम उठाने चाहिये, ताकि समाज के विभिन्न वर्गो को मिले लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा हो सके।

मालूम हो कि नगरिया गांव में हुई घटना के मामले में 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसके अलावा प्रकरण में लापरवाही बरतने के आरोप में संबंधित पुलिस क्षेत्राधिकारी को निलम्बित कर दिया गया था।