close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आज खोली जाएगी जेवर एयरपोर्ट की तकनीकी बिड

जेवर एयरपोर्ट की तकनीकी बिड में 4 बड़ी कंपनियों ने टेंडर डाला है. जिनमें डायल, बंगलूर एयरपोर्ट, ज्यूरिख एयरपोर्ट और अडानी ग्रुप हैं.

आज खोली जाएगी जेवर एयरपोर्ट की तकनीकी बिड
(प्रतीकात्मक फोटा)

ग्रेटर नोएडा: आज (बुधवार) से जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) की तकनीकी बिड खोली जाएगी. जेवर एयरपोर्ट की तकनीकी बिड में 4 बड़ी कंपनियों ने टेंडर डाला है. जिनमें डायल, बंगलुरू एयरपोर्ट, ज्यूरिख एयरपोर्ट और अडानी ग्रुप हैं. इन चारों कंपनियों में जो भी कंपनी सफल होगी वो 29 नवंबर को आर्थिक रूप से शामिल हो पाएगी. इस बिड में फर्स्ट राइट टू रेफ्यूजल (First Right of Refusal ) का अधिकार दिल्ली एयरपोर्ट ऑपरेटर (DELHI Airport Operator) के पास रहेगा क्योंकि जेवर एयरपोर्ट दिल्ली एयरपोर्ट से 100 किलोमीटर की रेडियस के अंदर आता है.

हवाई जहाज में बैठकर कब से उड़ान भरेंगें आम लोग ?
साल 2023 से जेवर एयरपोर्ट अपनी सेवाएं देना शुरु कर देगा. एयरपोर्ट का निर्माण साल 2020 से प्रारंभ होगा. उत्तर प्रदेश सरकार ने जेवर एयरपोर्ट की नींव 1 अक्टूबर 2018 को रखी थी.

जेवर एयरपोर्ट बनने में कितना आएगा खर्च ?
एयरपोर्ट का निर्माण चार चरणों में किया जाएगा. पहले चरण में लगभग 5000 करोड़ खर्च किए जाने का अनुमान लगाया जा रहा है. इसमें सालाना 1 करोड़ 20 लाख यात्रियों को हवाई सेवाएं दी जाएंगी. जेवर एयरपोर्ट के चारों चरणों को मिलाकर लगभग 20 से 30 हजार करोड़ खर्च होने की बात कही जा रही है. अंतिम चरण का निर्माण 2040 तक बताया जा रहा है और उस समय एयरपोर्ट की यात्री क्षमता सात करोड़ यात्री सालाना तक हो जाएगी.

यूपी में अभी कितने एयरपोर्ट ?
उत्तर प्रदेश में मौजूदा समय में 2 इंटरनेशनल एयरपोर्ट हैं, एक राजधानी लखनऊ में चौधरी चरण सिंह और दूसरा वाराणसी  में लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट है और अब तीसरा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर एयरपोर्ट गौतमबुद्ध नगर में बनने जा रहा है.