close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लखीमपुर खीरी: नरभक्षी हो रहा था बाघ, ग्रामीणों ने उतार दिया मौत के घाट

घटना के बाद दुधवा नेशनल पार्क के डिप्टी डायरेक्टर महावीर कालजगी का कहना है कि ग्रामीणों द्वारा किया गया ये कार्य गैरकानूनी है. उन्होंने कहा कि दोषियों पर एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है.

लखीमपुर खीरी: नरभक्षी हो रहा था बाघ, ग्रामीणों ने उतार दिया मौत के घाट
ये बाघ लगातार वन विभाग को चकमा दे रहा था.

लखीमपुर खीरी: बाघ के हमले में हुई ग्रामीण की मौत से गुस्साए ग्रामीणों ने जंगल मे घेरकर नुकीले हथियारों और लाठी डंडो से पीट-पीट कर बाघ को मौत के घाट उतार दिया. पूरे मामले में वन विभाग लगातार काम्बिंग करता रहा, लेकिन न ही ग्रामीण को बचा सका और न ही बाघ को. सवालों से घिरा वन विभाग अब बाघ की हत्या के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करने की बात कह रहा हैं, लगातार मानव और वन्य जीव की बीच बढ़ रही संघर्ष की घटनाओं को रोकने का कोई स्थायी समाधान नजर नहीं आ रहा है.

घटना लखीमपुर खीरी के किशनपुर वन्य जीव इलाके की है. जहां ग्रामीणों ने एक बाघ को इसलिए पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया, क्योंकि बाघ ने एक ग्रामीण को शिकार बना रहा था. इससे लोग बाघ से आक्रोशित थे, वहीं ग्रामीणों की मानें तो कई बार यह इसकी शिकायत वन विभाग से की गई. लेकिन वह समय रहते कोई राहत नहीं पहुंचा सका, जिसके चलते एक शख्स अकाल मौत की गोद मे चला गया. ग्रामीण के शिकार के बाद से ग्रामीणों में वन विभाग के प्रति खासा रोष है. 

आपको बता दें कि मैलानी वन रेंज के चलतुवा गांव के रहने वाले देवानंद जंगल के रास्ते साइकिल से जा रहे थे, तभी लघु शंका के दौरान बाघ ने हमला कर घायल कर दिया था. घायल को अस्पताल जाते वक्त मौत हो गई. यह बाघ इसी क्षेत्र में कई दिनों से घूम रहा था. ग्रामीणों ने बताया कि ये बाघ लगातार वन विभाग को चकमा दे रहा था. बताया जा रहा है कि बाघ ने एक हाथी को भी घायल किया था. 

लगातार हमले कर रहा बाघ की शिकायत ग्रामीणों ने वन विभाग से की. जानकारी के मुताबिक, काम्बिंग में लगाया गया ट्रेक्टर को अपने कब्जे में ले लिया और जंगल मॆ ग्रामीण घुस गए. सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने उस बाघ को घेर लिया और ट्रेक्टर से उस बाघ को दबा दिया साथ ही लाठी डंडों से पीट-पीटकर उसे मार दिया.

घटना के बाद दुधवा नेशनल पार्क के डिप्टी डायरेक्टर महावीर कालजगी का कहना है कि ग्रामीणों द्वारा किया गया ये कार्य गैरकानूनी है. उन्होंने कहा कि दोषियों पर एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है.