close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भाईदूज से बदल जाएगा वृन्दावन के ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में दर्शन का समय

उत्तर प्रदेश के तीन अतिसंवेदनशील धर्मस्थलों में से एक मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान सहित अन्य भीड़-भाड़ वाले मंदिरों तथा तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चौकस बना दिया गया है. 

भाईदूज से बदल जाएगा वृन्दावन के ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में दर्शन का समय
संध्याकालीन दर्शन के लिए मंदिर के पट 4 बज कर 30 मिनट पर खुलेंगे तथा 7 बज कर 30 मिनट पर शयनभोग लगाया जाएगा.

मथुरा: वृन्दावन के विश्वविख्यात ठाकुर बांकेबिहारी के मंदिर में भगवान की विभिन्न झांकियों के दर्शन के समय में भैयादूज से परिवर्तन होने जा रहा है. मंदिर के प्रबंधक उमेश सारस्वत के अनुसार, शीतकाल प्रारंभ होने के चलते नौ नवम्बर, शुक्रवार से ठाकुर जी के मंदिर के पट प्रातः आठ बज कर 45 मिनट पर खुलेंगे. उन्होंने मीडिया को बताया कि ठाकुर जी की श्रृंगार आरती 8 बज कर 55 मिनट पर होगी. राजभोग के दर्शन मध्याह्न 12 बजे और 12 बज कर 55 मिनट पर राजभोग आरती संपन्न होगी. ’’ 

इसी प्रकार, संध्याकालीन दर्शन के लिए मंदिर के पट 4 बज कर 30 मिनट पर खुलेंगे तथा 7 बज कर 30 मिनट पर शयनभोग लगाया जाएगा. रात्रि में 8 बजे से दर्शन के लिए पट पुनः खुलेंगे और शयनभोग आरती 8 बज कर 25 मिनट पर संपन्न की जाएगी. 

इस बीच, उत्तर प्रदेश के तीन अतिसंवेदनशील धर्मस्थलों में से एक मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान सहित अन्य भीड़-भाड़ वाले मंदिरों तथा तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चौकस बना दिया गया है. विशेष तौर पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान एवं उसके आसपास के दायरे में आने वाले सभी सार्वजनिक स्थलों पर बम निरोधक दस्ते और खुफिया तंत्र को पूरी तरह से सतर्क कर दिया गया है. 

वैसे भी, हरियाणा तथा राजस्थान की सीमाएं लगी होने के कारण मथुरा जनपद अपराध की दृष्टि से भी अति संवेदनशील जनपदों की श्रेणी में आता है. इसलिए राजमार्ग, एक्सप्रेस-वे तथा जनपद में प्रवेश के सभी मार्गों पर सघन जांच की जा रही है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया कि दीपावली पर्व पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान और ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर सहित वृन्दावन के ठाकुर बांकेबिहारी, इस्कॉन, प्रेम मंदिर आदि भीड़ वाले स्थानों की चौकसी बढ़ा दी गई है. श्रीकृष्ण जन्मस्थान के यलो जोन में बम डिटेक्शन एण्ड डिस्पोजल टीम (बीडीडीएस) को तैनात कर दिया गया है.’’ 

उन्होंने बताया, इस क्षेत्र में संदिग्ध वाहनों की सघन जांच के अलावा होटल, गेस्टहाउस, धर्मशालाओं में अज्ञात एवं संदिग्ध लोगों के बारे में जानकारी की जा रही है. जनपद में प्रवेश करने वाले वाहनों की भी जांच की जा रही है. होटलों, धर्मशालाओं आदि के रजिस्टर चेक कर ठहरने वालों की संख्या, आईडी प्रूफ आदि की जानकारी ली जा रही है.

एसएसपी ने बताया, चूंकि अब गोवर्धन और बरसाना आदि तीर्थस्थलों पर भी देश-विदेश से पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हो गई है इसलिए वहां भी सुरक्षा तंत्र को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं.’’ उन्होंने बताया, ‘‘हालांकि, मथुरा के तेलशोधक कारखाने की सुरक्षा की संपूर्ण जिम्मेदारी केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की है परंतु, जिला स्तर पर उसे भी पुलिस के साथ तालमेल बनाकर रहना होता है. इसीलिए, वहां भी दीपोत्सव पर्व पर सतर्कता बरतने और सघन निगरानी रखने को कहा गया है.’’