बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार देना चाहते हैं राम मंदिर निर्माण में श्रमदान, यह बताई वजह
X

बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार देना चाहते हैं राम मंदिर निर्माण में श्रमदान, यह बताई वजह

 इकबाल अंसारी को शांति दूत के रूप में देखा जाता रहा है. इससे पहले जब राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना सुप्रीम फैसला नहीं सुनाया था, तब भी वह भाईचारे की बात करते थे. 

बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार देना चाहते हैं राम मंदिर निर्माण में श्रमदान, यह बताई वजह

अयोध्या: रामनगरी अयोध्या में बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी अब राम मंदिर निर्माण कार्य में श्रमदान करना चाहते हैं. जानकारी के मुताबिक, इकबाल अंसारी चाहते हैं कि देश में ही नहीं पूरे विश्व में हिंदू-मुस्लिम एकता का एक मैसेज पहुंचे. वे चाहते हैं कि लोगों को पता चले कि भारत में हिंदू और मुस्लिम एक दूसरे के धर्म का आदर करते हुए भाईचारे के साथ रहते हैं.

ये भी पढ़ें: इस देश ने सुसाइड रोकने के लिए बना दिया अलग मंत्रालय, क्या भारत को भी है जरूरत?

राम मंदिर की पूरे विश्व में चर्चा
भक्तों के लिए सबसे बड़ी खुशी की खबर यही है कि राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है. ऐसे में इकबाल अंसारी चाहते हैं कि उनको भी अपने परिवार के साथ राम मंदिर निर्माण कार्य में श्रमदान करने का मौका दिया जाए. इकबाल अंसारी कहते हैं कि पूरी दुनिया में राम मंदिर की चर्चा हो रही है. श्रीराम के भक्तों का बरसों पुराना सपना अब साकार हो रहा है. अब वह चाहते हैं कि देश में अमन शांति रहे. दोनों धर्मों के बीच भाईचारा रहे इसके लिए वह दुआ भी करते हैं. 

ये भी पढ़ें: ध्यान दें! अगर इस तरीके से करते हैं झाड़ू का इस्तेमाल तो मां लक्ष्मी हो सकती हैं नाराज​

इकबार अंसारी ने हमेशा की राम मंदिर की वकालत
आपको बता दें कि इकबाल अंसारी को शांति दूत के रूप में देखा जाता रहा है. इससे पहले जब राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना सुप्रीम फैसला नहीं सुनाया था, तब भी वह भाईचारे की बात करते थे. इसके बाद जब सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया, तब भी इकबाल अंसारी ने राम मंदिर निर्माण की ही वकालत की है. ऐसे में उनका यह बयान महत्वपूर्ण है कि वह राम मंदिर निर्माण कार्य में श्रमदान देना चाहते हैं. 

ये भी पढ़ें: छोटे भाई की बीवी से था प्रेम संबंध, पत्नी ने किया विरोध तो उसे ही कुल्हाड़ी से काट दिया

नींव के डिजाइन पर होनी है चर्चा
गौरतलब है कि 25 फरवरी, यानी आज अयोध्या में राम मंदिर निर्माण समिति की बैठक हो रही है. यह दो दिवसीय बैठक है. इसके लिए मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन पूर्व आईएएस नृपेंद्र मिश्र अयोध्या पहुंच चुके हैं. उन्होंने सुबह 10:00 बजे ही राम मंदिर निर्माण कार्य की प्रगति को देखने के लिए राम जन्मभूमि परिसर में स्थलीय निरीक्षण किया. साथ ही, वह निर्माण कंपनी लार्सन एंड टूब्रो और टाटा कंसल्टेंसी के साथ मंदिर निर्माण की प्रगति के बारे में एक बैठक भी करेंगे. इस बैठक में मंदिर निर्माण के लिए नींव की डिजाइन और नींव में पड़ने वाले मटेरियल को भी लेकर चर्चा होगी. 

WATCH LIVE TV

Trending news