CM योगी ने विपक्ष को लिया आड़े हाथ, कहा ''ऐसे बोलते हैं जैसे सत्यवादी हों, हंसी आती है''

सीएम योगी ने विपक्ष के सवालों पर जवाब देते हुए कहा कि हंसी आती है जब सपा, बसपा किसानों पर चर्चा की मांग करते हैं.

CM योगी ने विपक्ष को लिया आड़े हाथ, कहा ''ऐसे बोलते हैं जैसे सत्यवादी हों, हंसी आती है''
फाइल फोटो

विनोद मिश्रा/लखनऊ: विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा. विपक्ष के सवालों पर जवाब देते हुए कहा कि हंसी आती है जब सपा, बसपा किसानों पर चर्चा की मांग करते हैं. इससे पहले 12-15 साल किसान बदहाल रहा. लेकिन हमने पहला बजट किसानों को समर्पित किया.

आज सदन में जमकर हुआ हंगामा
बजट सत्र के दौरान विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ. सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता विपक्ष राम गोविंद चौधरी ने आरोप लगाया कि सरकार जो जनगणना करवा रही है. उसमें पिछड़ा वर्ग का कॉलम खत्म कर दिया गया है. जिस पर समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने वेल में आकर हंगामा भी किया. वहीं संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि सरकार पिछड़े वर्गों का सम्मान करती है. लेकिन बावजूद इसके विपक्ष ने हंगामा जारी रखा. जिसके चलते सदन की कार्यवाही को 35 मिनट के लिए स्थगित करना पड़ा.

सीएम योगी ने दिया करारा जवाब
तंज कसते हुए सीएम योगी ने कहा, ''सदन में जब विपक्ष बोलता है तो ऐसा लगता है मानो राजा हरिश्चंद्र के नए अवतार प्रस्तुत हो चुके हों. जो ये बोल रहे हैं वह सत्य है जबकि असल में उसका सत्य से कोई लेना देना नहीं होता.'' विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि पहले पूरा प्रदेश संकीर्ण मानसिकता और नकारात्मकता में जकड़ा हुआ था. हमने जो बजट पेश किया वो विकास को गति और युवाओं को ऊर्जा देने वाला है. कोई राज्य सरकार के लिए नहीं कह सकता कि जाति मजहब के आधार पर कार्य किया है. सही मायने यह बजट सबका साथ सबका विश्वास बनके निकला है.

सीएम योगी ने सदन में बताया कि हमारा पहला बजट किसानों के लिए समर्पित था. किसानों के लिए कर्ज योजना के साथ सिंचाई योजना, समर्थन मूल्य जैसे कार्यक्रम चलाए जिससे सीधे किसानों से खरीद की जा सके. 30 लाख हेक्टेयर भूमि को हमने सिंचित बनाया. हमने पुलिस और पीएसी की क्षमता को बढ़ाया. पुलिस के आधुनिकरण के लिए बजट 2020-21 में प्रावधान भी किया. ग्रामीण अर्थ व्यवस्था बढ़ाने की दिशा में काम हुआ है. 20 सालों से गन्ना किसानों का भुगतान नहीं हुआ था, मंडी के हालात भी खराब थे.

योगी सरकार पेश कर चुकी है उत्तर प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट
योगी सरकार ने 18 फरवरी को उत्तर प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट पेश किया. योगी सरकार के कार्यकाल का चौथा बजट 5.12 लाख करोड़ रुपए का रहा. वित्तमंत्री ने बताया था कि 2017-18 का बजट किसानों को समर्पित था, 2018-19 का बजट औद्योगिक विकास को समर्पित था और 2019-20 का बजट महिला सशक्तिकरण को समर्पित था. वहीं चौथा बजट, यानी वित्त वर्ष 2020-21 का बजट युवाओं की शिक्षा, संवर्धन और रोजगार को समर्पित है.

यह भी पढ़ें: UP Budget 2020-21: उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा बजट पेश, जानें योगी सरकार ने किसे क्या दिया