UPPSC द्वारा चयनित उपजिलाधिकारियों को CM योगी ने वितरित किए जॉइनिंग लेटर्स, दी यह बड़ी सलाह

डिप्टी सीएम ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लगातार भर्तियां पूरी की जा रही हैं. कोई भी इन पर उंगली नही उठा सकता. मुख्यमंत्री द्वारा निष्पक्षता के साथ इसका लगातार आंकलन भी किया जाता है.

UPPSC द्वारा चयनित उपजिलाधिकारियों को CM योगी ने वितरित किए जॉइनिंग लेटर्स, दी यह बड़ी सलाह

लखनऊ: UPPSC द्वारा चयनित उपजिलाधिकारियों को आज सीएम योगी नियुक्ति पत्र वितरित कर रहे हैं. इस बीच यूपी सरकार के मंत्री सुरेश खन्ना ने अपनी मेहनत से सफल हुए उपजिलाधिकारियों को बधाई दी और कहा- "आपकी मेहनत का प्रतिफल है कि आज आप यहां आकर मुख्यमंत्री द्वारा नियुक्ति पत्र प्राप्त कर रहे हैं."

रामलला के भक्तों को अब मिल रहा विशेष प्रसाद, जन्मभूमि ट्रस्ट ने शुरू किया यह स्पेशल प्लान

नवनियुक्तों को सुरेश खन्ना ने दी यह सलाह
सुरेश खन्ना ने आगे कहा, "प्रारंभ में सेवा भाव का जज़्बा बहुत होता है, लेकिन इसे अंत तक बनाये रखना होगा. जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय बनाकर चलने से आपकी ख्याति ही बढ़ती है. सिविल सेवा आपके जीवन मे हर बात को बढ़ाती है. आप जिस पद पर रहेंगे, उस कुर्सी के माध्यम से जनसेवा करेंगे." उन्होंने आगे कहा, "इस पद पर आने के बाद दिखास और छपास का रोग लग जाता है,लेकिन इससे बचना होगा. आप न्यायप्रिय होकर कार्य करें. हर स्तर पर न्याय हो, इसका प्रयास होना चाहिए."

डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने भी दी बधाई
उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने भी नवनियुक्त उपजिलाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा, "आप सब जानते हैं कि परीक्षा में बैठना और फिर सफल होना किसी चुनौती से बढ़कर होता है. हम निरंतर चुनौती से ही सीखते और बढ़ते हैं. बदलते समय में लोगों के लक्ष्य में बदलाव होता आया है. ऐसा हमको देखने में मिल रहा है. लक्ष्य कोई भी छोटा नहीं होता. आप ने लक्ष्य निर्धारण किया. एक इंजीनियर सिविल सर्विस में आ रहे हैं. डॉक्टर बनने के बाद सिविल सर्विस में आ रहे हैं. यही लक्ष्य होना चाहिए."

भर्ती प्रक्रिया पर कोई उंगली नहीं उठा सकता
वहीं, डिप्टी सीएम ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा लगातार भर्तियां पूरी की जा रही हैं. कोई भी इन पर उंगली नही उठा सकता. मुख्यमंत्री द्वारा निष्पक्षता के साथ इसका लगातार आंकलन भी किया जाता है. 

आरोप: दारोगा ने मां-बेटी को डंडों से पीटा, पुलिस ने दर्ज नहीं की शिकायत, तो पीड़िता ने इच्छा मृत्यु की मांगी अनुमति

लक्ष्य तक न पहुंचने पर घबराएं नहीं
दिनेश मौर्य ने आगे कहा, "आप अगर किसी लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाएं, तो असहज न हों. अगले लक्ष्य की ओर बड़िए. दृढ़ निश्चयी बनिए. मुख्यमंत्री जी द्वारा काफी प्रयास से उत्तर प्रदेश को बहुत मुश्किल से भाई भतीजावाद, सम्प्रदायवाद, जातिवाद जैसे वादों से दूर लेकर आए हैं. इसे आपको बनाएय रखना होगा."

CM योगी आदित्यनाथ ने भी दी सलाह
सीएम ने नए उपजिलाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा, "सबसे पहले आप सबको देश के सबसे बड़े राज्य की सबसे बड़ी प्रशासनिक व्यवस्था का हिस्सा बनने के लिए शुभकामनाएं. उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरियों की प्रक्रिया 2017 के पहले कैसे कलंकित हो गई थी, भाई भतीजावाद इस कदर हो गया था कि भर्तियां न्यायालय तक पहुंच गईं. फिर सीबीआई जांच तक पहुंच गईं. यह युवाओं के साथ कुठाराघात था. युवा इससे कुंठित होता था. हमने सरकार में आने के बाद बोर्ड और आयोगों की अव्यवस्था भ्रष्टाचार को समाप्त किया. प्रक्रिया में तेज़ी लाकर, शुचिता और पारदर्शी तरीके से भर्तियां कीं."

2017 से पहले से लेकर आज तक नियुक्ति पत्र योगी सरकार ने दिए
CM ने आगे कहा कि हम 4 लाख से ऊपर नियुक्ति पत्र दे चुके हैं और कोई भी भर्ती न्यायालय में लंबित नहीं है. भर्ती प्रक्रिया में किसी भी बाहरी तत्व को हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं होनी चाहिए और भर्ती निष्पक्ष होनी चाहिए. इसके परिणाम सामने हैं. 2017 के पहले के नियुक्ति पत्र भी हमने ही दिए हैं और 2021 की भर्ती के नियुक्तिपत्र भी हम ही दे रहे हैं.

Funniest Video: मिल गया Thug Life का असली सुपरस्टार, स्टाइल में Rajnikant भी फेल

उन्होंने सलाह देते हुए कहा, "शासन आपको नियुक्तिपत्र दे रहा है तो आपसे अपेक्षा भी रखता है. जनता की जरूरतों को पूरा करने का उत्तरदायित्व आप पर ही है. न्याय से कोई वंचित न होने पाए. हम अगर इस दायित्व का ईमानदारी से निर्वहन करते हैं, तो हम अपनी सेवा के साथ निष्ठा करेंगे. आप इससे पहले क्या थे वह आपके व्यक्तिगत जीवन का हिस्सा था, लेकिन अब आप क्या हैं, इसे आपको अपने कार्यपद्धति के माध्यम से दिखाना भी पड़ेगा."

भ्रष्टाचार से दूर रहें
"पीसीएस सेवा के माध्यम से आप सचिव स्तर तक पहुंच सकते हैं, लेकिन ये कुछ ही होते हैं. कुछ तो आयु के आधार पर नहीं पहुंचते, लेकिन कुछ सेवा में आने के बाद भ्रष्टाचार में लिप्त हो जाते हैं. आप को सोचना होगा, आप कैसे सेवा करते हैं."

तकनीक से बचाएं जनता का समय
"मैं अपने व्यस्तता के बीच जनता से मिलता हूं, दौरे में भी जनता से मिलता हूं. गोरखपुर रहता हूं, तब भी जनता से मिलता हूं, मैं देखता हूं जनता की अधिकांश समस्याएं तहसील और थाना स्तर तक की होती हैं. आप में से अधिकांश टेक्नोक्रेट हैं. तकनीकी का प्रयोग करके आप जनता की समस्याओं को निपटा सकते हैं. तकनीकी के प्रयोग से ही जनता के समय मे बचत होगी. आपको ट्रेनिंग के दौरान सचिवालय, तहसील, फील्ड में काम करने का अनुभव प्राप्त होगा. आपका ध्येय होना चाहिए, पीड़ित को न्याय मिलना चाहिए.

WATCH LIVE TV