सूखी खांसी से पाना है छुटकारा तो आज से ही शुरू कर दें ये घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा आराम

खांसी के समय शहद का सेवन रामबाण है. इसके एंटीऑक्सीडेंट तत्व खांसी से लड़ने में मदद करते हैं. इसके अलावा गले की खराश भी कम होती है. 

सूखी खांसी से पाना है छुटकारा तो आज से ही शुरू कर दें ये घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा आराम

नई दिल्ली: बदलते मौसम में सूखी खांसी आम बात है. लेकिन आज-कल ये भी डराने लगी है क्योंकि कोरोना महामारी के कई सिम्पटम्स में से एक सूखी खांसी भी है. ऐसे में अगर हम घरेलू उपाय की मदद लें तो इससे छुटकारा पाया जा सकता है. आइए हम आपको बताते हैं किन उपायों का इस्तेमाल कर सकते हैं आप...

ये भी पढ़ें: ये आसान सा प्राणायाम कोरोना महामारी से लड़ने में करेगा आपकी मदद, बस ऐसे अपनाएं

अदरक करती है फायदा
बताया जाता है कि अदरक से खांसी कम करने में काफी मदद मिलती है. इसलिए लोग अदरक की चाय पीना पसंद करते हैं. साथ ही अगर शहद के साथ अदरक की चाय पी जाए तो बहुत फायदा करती है. लेकिन ध्यान रहे ज्यादा चाय से पेट खराब हो सकता.

शहद करता है फायदा
खांसी के समय शहद का सेवन रामबाण है. इसके एंटीऑक्सीडेंट तत्व खांसी से लड़ने में मदद करते हैं. इसके अलावा गले की खराश भी कम होती है. इसलिए हर्बल टी या नींबू पानी में शहद मिलाकर दिन में एक से दो बार पीना चाहिए.

ये भी पढ़ें: हर दिन खाएं बस 3 काली मिर्च, फायदे आपको चौंका देंगे, बीमारियां भी रहेंगी दूर

पिपरमेंट करता है फायदा
सूखी खांसी में पिपरमेंट भी फायदा करता है क्योंकि इसका मेंथोल कम्पाउंड गले को राहत देता है. साथ ही, गले की जलन और दर्द कम करने में भी मदद मिलती है. दिन में दो से तीन बार पिपरमेंट के सेवन से खांसी की समस्या दूर होने लगती है. 

नमक पानी से करें गरारा
सूखी खांसी का इलाज है गर्म पानी में नमक घोलकर उससे गरारा करना. इससे गले की खुजली मिटती है. साथ ही लंग्स में जमा कफ भी कम होने लगता है. नमक पानी के गरारे करने से गले में होने वाले टॉन्सिल में भी आराम मिलता है. 

ये भी पढ़ें: तरबूज ही नहीं उसके छिलके भी आपको रख सकते हैं फिट, जान लें इनके चमत्कारी फायदे

नीलगिरी का तेल भी करता है फायदा
पाया गया है कि नीलगिरी के तेल से सांस की नली साफ हो जाती है. इसके लिए नारियल या जैतून के तेल में नीलगिरी की कुछ बूंदें मिलाएं और सीने पर मालिश करें. इसके अलावा अगर आप स्टीम लेना चाहते हैं तो गर्म पानी की कटोरी में नीलगिरी के तेल की बूंदें मिलकर भाप लें. इससे चेस्ट हल्का होगा और सांस लेने में आसानी होगी.

डिस्क्लेमर: यह आर्टिकल सामान्य जानकारी के आधार पर लिखा गया है. किसी भी घरेलू उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर्स या एक्सपर्ट्स की सलाह जरूर लें. 

WATCH LIVE TV