इंटरनेट बना क्राइम का अड्डा: मेरठ में 25 लाख की हुई रिकवरी, आईजी रेंज ने लोगों से की सतर्क रहने की अपील
X

इंटरनेट बना क्राइम का अड्डा: मेरठ में 25 लाख की हुई रिकवरी, आईजी रेंज ने लोगों से की सतर्क रहने की अपील

पिछले अंतराल में 24.29 लाख की रिकवरी कर लोगों को उनके पैसे वापस दिलाये गए हैं. इसमें 25 मुकदमे भी दर्ज हुए हैं...

इंटरनेट बना क्राइम का अड्डा: मेरठ में 25 लाख की हुई रिकवरी, आईजी रेंज ने लोगों से की सतर्क रहने की अपील

मेरठ: इंटरनेट आज लोगों की जरूरत बन गई है. सभी सेक्टरों में लेन-देन की प्रतिक्रिया अब लगभग ऑनलाइन हो गई है. अगर आप भी इंटरनेट बैंकिंग का यूज ज्यादा करने लगे हैं, तो जानते होंगे कि यह जितना टेंशन कम करने वाला है, उतना ही टेंशन बढ़ा भी सकता है. ऑनलाइन पेमेंट मेथड का इस्तेमाल करते समय हमें हमेशा सावधान रहने की जरूरत है. क्योंकि इसी के साथ साइबर क्राइम भी बढ़ गया है. अब ऑनलाइन चोरी करने वालों की नजर लोगों के बैंक खातों पर होती है. ऐसे में जरा सी चूक आप पर भारी पड़ सकती है. अकाउंट से हजारों और लाखों रुपये चंद सेकंड में गायब हो जाते हैं. ऐसे में यह पुलिस के लिए भी एक चुनौती बन गई है. 

फर्जी जमानतदारों के गैंग का खुलासा: नकली दस्तावेजों पर कई अपराधियों की कराई जमानत

पुलिस के सामने आती हैं 2 चुनौतियां
दरअसल, मेरठ रेंज के आईजी प्रवीण कुमार ने बताया है कि पुलिस को ऐसे मामलों में दोहरे तरीके की चुनौती मिलती रहती है. पहली चीज यह है कि जो हमारे जांच पड़ताल करने वाले पुलिस अधिकारी हैं, उन्हें इन नये तरीकों को जानने-समझने में और दक्षता संपन्न बनाने में समय लग जाता है. वहीं, इसके लिए विभिन्न प्रकार की क्लास के माध्यम से भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है. दूसरी तरफ आम जनता विद्यार्थी और बहुत सारे लोगों से इंटरफेस करते हुए 'डू एंड डोंट' के बारे में बताया गया कि किस प्रकार से आम लोग के साथ यह लोग ठगी करते हैं और कैसे इससे सतर्क रहना चाहिए. 

लगभग 25 लाख रुपये की रिकवरी
हालांकि, काफी प्रयासों के बाद भी जब लोग ऑनलाइन ठगी के शिकार होते हैं, तो भी पुलिस को तत्परता से कार्रवाई करने के निर्देश सभी जिलों में दिए गए हैं. प्रदेश के सभी जिलों में साइबर यूनिट बनी हुई हैं और प्रभारी तरीके से कार्रवाई की गई है. अगर ठगी का कोई व्यक्ति शिकायत लेकर पहुंचता है, तो तुरंत टीम अपना काम करती है. अगर रिकवरी की बात करें तो पिछले अंतराल में 24.29 लाख की रिकवरी कर लोगों को उनके पैसे वापस दिलाये गए हैं. इसमें 25 मुकदमे भी दर्ज हुए हैं. अगर कोई प्रार्थना पत्र आता है, तो तुरंत हम डिफरेंट आर्गेनाइजेशन के साथ आपसी संपर्क करते हुए इसमें लगातार कार्रवाई करते हैं. 

बैंक कर्मचारियों को भी चेताया जा रहा है
बैंकिंग सेक्टर को भी डू एंड डोंट के बारे में बताया जा रहा है. लोगों से चेताया जा रहा है कि इस धोखाधड़ी के शिकार होने से बचें. अगर होते हैं तो ऐसे लोग जो इस अपराध में लिप्त हैं, उनके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी. इसकी मॉनिटरिंग आईजी रेंज द्वारा ही की जा रही है. आरोपियों पर कठोरतम कार्रवाई सुनिश्चित की जा रही है. 

WATCH LIVE TV

Trending news