UP में बिना परीक्षा दिए पास होंगे राज्य विश्वविद्यालयों के छात्र, शासन ने गठित की कुलपतियों की समिति

 इस साल भी 10वीं, 12वीं बोर्ड एग्जाम से लेकर उच्च शिक्षा के विद्यार्थियों की परीक्षाएं नहीं हो सकी हैं. इस बीच खबर आई है कि उत्तर प्रदेश में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के विद्यार्थियों को इस साल भी प्रमोट किया जा सकता है.

UP में बिना परीक्षा दिए पास होंगे राज्य विश्वविद्यालयों के छात्र, शासन ने गठित की कुलपतियों की समिति
सांकेतिक तस्वीर.

लखनऊ: कोरोना महामारी के कारण जहां लोगों की सेहत पर बन आई है, वहीं देश में शैक्षिक गतिविधियां भी बीते दो साल से बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. इस साल भी 10वीं, 12वीं बोर्ड एग्जाम से लेकर उच्च शिक्षा के विद्यार्थियों की परीक्षाएं नहीं हो सकी हैं. इस बीच खबर आई है कि उत्तर प्रदेश में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के विद्यार्थियों को इस साल भी प्रमोट किया जा सकता है.

अब प्रयागराज में गंगा नदी के किनारे रेत में दफनाए मिले कई शव, पुलिस ने बढ़ाई चौकसी

शासन ने तीन कुलपतियों की समिति बनाई है और 7 दिन में इस संबंध में रिपोर्ट मांगी है. समिति में लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति आलोक राय, कानपुर विश्वविद्यालय के कुलपति विनय पाठक और रुहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली के कुलपति कृष्ण पाल सिंह शामिल हैं. यह समिति छात्रों को प्रमोट किए जाने का मानक तय करेगी.

छेड़छाड़ के आरोपी के खिलाफ बैठी पंचायत, सबके सामने की जूतों से पिटाई, फिर हुआ ये...

कोरोना ने प्रभावित किया शैक्षिक सत्र
कोरोना की पहली के साथ दूसरी लहर ने शैक्षिक सत्र को बुरी तरह प्रभावित किया है. ऑनलाइन क्लासेज के जरिए कुछ हद तक शैक्षणिक कार्य हुआ है. लेकिन परीक्षाएं नहीं हो सकी हैं. लखनऊ विश्वविद्यालय में ही अधिकतर परीक्षाएं होनी बाकी हैं. कोरोना की पहली लहर कमजोर पड़ने के बाद कुछ विश्वविद्यालयों ने कुछ कक्षाओं की परीक्षाएं आयोजित कर ली थीं. लेकिन ज्यादातर बाकी रह गई हैं.

योगी सरकार गरीबों-जरूरतमंदों को 3 महीने देगी मुफ्त राशन, दैनिक कामगारों को 1000 रुपए

वार्षिक परीक्षा प्रणाली है बड़ी चुनौती
विश्वविद्यालयों के सामने सबसे बड़ी समस्या वार्षिक परीक्षाओं को लेकर है. इस परीक्षा प्रणाली में छात्रों के प्रमोशन के लिए मूल्यांकन का कोई अन्य विकल्प नहीं है. सेमेस्टर परीक्षा प्रणाली में पूर्व में हो चुकी एक या दो सेमेस्टर की परीक्षाओं में परफॉर्मेंस के आधार पर छात्रों को प्रमोट किया जा सकता है. लेकिन वार्षिक परीक्षा प्रणाली में छात्रों का मूल्यांकन सिर्फ एक ही बार होता है. 

WATCH LIVE TV