UP विधानसभा का बजट सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, विधायक निधि बढ़ाने के लिए बनेगी कमेटी

सदन की कार्यवाही को 8 दिन पहले स्थगित किए जाने से नाराज समाजवादी पार्टी के विधायकों ने मुंह पर पट्टी बांधकर सदन में धरना भी दिया.

UP विधानसभा का बजट सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, विधायक निधि बढ़ाने के लिए बनेगी कमेटी
फाइल फोटो

विनोद मिश्रा/लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र अपने तय समय से पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया. 13 फरवरी से शुरू हुए विधानसभा के बजट सत्र के 16वें दिन सीएम योगी ने सदन में विधायक निधि को 3 करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव भी रखा. वहीं, सदन की कार्यवाही को 8 दिन पहले स्थगित किए जाने से नाराज समाजवादी पार्टी के विधायकों ने मुंह पर पट्टी बांधकर सदन में धरना भी दिया. सपा सदस्यों की मांग थी की सदन की कार्यवाही को 7 मार्च तक चलाया जाए.

''बजट सेशन बजट तक सीमित''
सीएम योगी ने सदन को संबोधित करते हुए विपक्ष के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि हमने सत्र जितना चलाया इससे पहले किसी सरकार ने एक साल में इतना सत्र नहीं चलाया. यहा बजट सेशन था और बजट तक ही सत्र सीमित होता है. इस दौरान लगातार चर्चा भी हुई. विपक्ष के सवालों का जवाब भी दिया. सवाल जितने गंभीर थे उसी तरीके से जवाब भी दिए गए.

मुंह पर पट्टी बांधकर बैठे विपक्ष पर मुख्यमंत्री ने कहा, ''जिन लोगों ने मुंह पर पट्टी बंधी है उन्हें पश्चयताप होगा, ठीक उसी तरीके से जैसे विशेष सत्र में शामिल न होने वाले सदस्यों को हुआ था.''

विधायक निधि बढ़ाने के लिए बनेगी कमेटी
उत्तर प्रदेश विधानसभा में CM योगी ने विधायक निधि को 3 करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव भी रखा. सीएम योगी ने बताया कि वित्त मंत्री की अध्यक्षता में कमेटी का गठन होगा. इस कमेटी में विपक्ष के नेता भी शामिल होंगे. यही कमेटी फाइनल डिसीजन लेगी. बता दें कि अभी विधायक निधि 2 करोड़ है.

इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि विधायकों की पेंशन पर भी चर्चा होनी चाहिए. विधायकों के परिवारों के बारे में क्या हो सकता है उस पर भी बात होनी चाहिए.

सीएम ने सदन में सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए ऐलान किया कि सदन की कार्यवाही के दौरान काम करने वाले सभी कर्मचारियों को 11500 का पुरष्कार दिया जायेगा.