UP Weather Update: जानिए अगले 7 दिन कैसा रहेगा राज्य का मौसम, कहां हो सकती है बारिश

मौसम विज्ञान केंद्र लखनऊ ने पूर्वांचल के 17 जिले में येलो अलर्ट ​​​​​और अवध के 28 जिले में ऑरेंज अलर्ट ​​​​​जारी किया है.

UP Weather Update: जानिए अगले 7 दिन कैसा रहेगा राज्य का मौसम, कहां हो सकती है बारिश
सांकेतिक तस्वीर.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में इस साल मानसून ने दस्तक तो समय से एक हफ्ते पहले दे दी थी, लेकिन इसका असर फिलहाल कमजोर पड़ गया है. लखनऊ स्थित मौसम केंद्र के निदेशक जेपी ने कहा कि अगले एक हफ्ते तक उत्तर प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में बारिश के आसार नहीं है. कुछ स्थानों पर छिटपुट बारिश जरूर हो सकती है.

मौसम विज्ञानी जेपी गुप्ता ने बताया कि हवा में नमी के कारण अगले एक सप्ताह तक राज्य के अधिकांश हिस्सों में उमस भरी गर्मी पड़ेगी. मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में इक्का-दुक्का स्थानों पर गरज-चमक के साथ हल्की बारिश हुई. इस दौरान रिहंद (सोनभद्र) में सबसे ज्यादा नौ सेंटीमीटर वर्षा हुई.

पूर्वांचल के 17 जिले में येलो अलर्ट ​​​​​
अगले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी इलाकों में कुछ स्थानों पर बारिश होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है. मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर, मिर्जापुर संत रविदास नगर जौनपुर लखीमपुर खीरी शाहजहांपुर बरेली बदायूं सुल्तानपुर, बस्ती, इटावा औरैया में येलो अलर्ट ​​​​​जारी किया गया है. इन जिलों मं 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और गरज-चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है.

अवध के 28 जिले में ऑरेंज अलर्ट ​​​​​
अवध के 28 जिलों प्रतापगढ़, अमेठी, अयोध्या, रायबरेली, गोंडा, बस्ती, सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, सीतापुर, बाराबंकी हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, मैनपुरी, जालौन, कानपुर नगर, कानपुर देहात लखनऊ, उन्नाव, फतेहपुर, हमीरपुर, बांदा महोबा, चित्रकूट, कौशांबी, प्रयागराज में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है. इन जिलों में 87 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने और गरज-चमक के साथ फुहारें पड़ने की संभावना है.

मौसम विभाग के ग्रीन, येलो, ऑरेंज और रेड अलर्ट का क्या मतलब होता है जानें

ग्रीन अलर्ट: इस अलर्ट का मतलब होता है कि कोई खतरा नहीं है. सबकुछ नॉर्मल है. बारिश की संभावना नहीं है.  

येलो अलर्ट: आने वाले खतरे के प्रति सचेत करता है. येलो अलर्ट को मौसम विज्ञान विभाग जैसे-जैसे मौसम खराब होता है, ऑरेंज अलर्ट में परिवर्तित कर देता है.

ऑरेंज अलर्ट: बारिश व आंधी की पूरी संभावनाएं होती है. इस अलर्ट का मकसद लोगों को सावधान करना होता है. उन्हें सुरक्षित स्थान पर रहने के लिए सतर्क करता है. 

रेड अलर्ट: इस अलर्ट का मतलब होता है कि मौसम खतरनाक है, भारी बारिश होने की अधिक संभावना है. रेड अलर्ट के बाद लोगों को अपने घरों में रहना चाहिए, बाहर जाने से बचना चाहिए.

WATCH LIVE TV