CM योगी ने की इमरजेंसी बैठकः UP मनाएगा 'टीका उत्सव', इतने मरीज होते ही लगा देंगे Night Curfew

गोरखपुर मंडल के चारों जनपद संवेदनशील हैं, इसलिए यहां स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाएं. जरूरत पड़ने पर प्राइवेट क्षेत्र के अस्पतालों को भी कोविड के लिए रिजर्व करें.

CM योगी ने की इमरजेंसी बैठकः UP मनाएगा 'टीका उत्सव', इतने मरीज होते ही लगा देंगे Night Curfew
CM योगी आदित्यनाथ ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ इमरजेंसी बैठक की

गोरखपुरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में बढ़ते कोविड मरीजों को देखते हुए गोरखपुर में सीनियर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित की. सीएम ने कहा, "डायल 112 के माध्यम से सभी को जागरूक किया जाए और 500 से ज्यादा कोविड मरीजों वाली जगहों पर कर्फ्यू लगाया जाए." अधिकारियों को निर्देश देते हुए सीएम ने कहा कि प्रदेश में 11 से 14 अप्रैल तक 'टीका उत्सव' भी मनाया जाएगा.

प्राइवेट क्षेत्र के अस्पतालों को करें कोविड के लिए रिजर्व
सीएम योगी ने निर्देश दिए कि प्रशासन कमांड एवं कंट्रोल सेंटर में बेड्स की अवेलेबिलिटी पर अपडेटेड सूचना दें. परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए लोगों को कोरोना से बचाव की ट्रेनिंग देना भी शुरू करें. गोरखपुर मंडल के चारों जनपद संवेदनशील हैं, इसलिए यहां स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाएं. जरूरत पड़ने पर प्राइवेट क्षेत्र के अस्पतालों को भी कोविड के लिए रिजर्व करें.

यह भी पढ़ेंः- योगी आदित्यनाथ ने भर दी अल्पसंख्यकों की झोली, सपा सरकार से ज्यादा किया कल्याण

50 प्रतिशत एम्बुलेंस कोविड के लिए
सीएम ने कहा कि क्षेत्र में कहीं भी टेस्टिंग या इलाज में ज्यादा शुल्क वसूले जाने पर तुरंत उसकी शिकायत करें. इन मामलों में शिकायत पर तुरंत एक्शन लिया जाएगा. 50 प्रतिशत 108 एम्बुलेंस सेवा एवं एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट (ALS) एम्बुलेंस कोविड मैनेजमेंट के लिए उपलब्ध की जाएं.

रेलवे स्टेशन पर हो कोविड टेस्टिंग की व्यवस्था
रेलवे के लिए निर्देश जारी करते हुए सीएम ने बताया कि अन्य राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाली सभी स्पेशल ट्रेनों के लिए पर्याप्त कोविड टेस्टिंग सुनिश्चित हो. दूसरे राज्यों से आने वाले यात्रियों का एंटीजन टेस्ट कराएं, संदिग्धों का RT-PCR टेस्ट कराएं और उन्हें आइसोलेशन में रखें. प्रशासन सुनिश्चित करें कि कोविड-19 के 60 प्रतिशत टेस्ट RT-PCR के माध्यम से ही हों.

यह भी पढ़ेंः- काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में भक्तों की एंट्री पर रोक, जानिए क्यों हुआ ऐसा

अब सीनियर डॉक्टर्स की बढ़ेगी जिम्मेदारी
महामारी काल में सीनियर एवं विशेषज्ञ डॉक्टरों से अधिक सहयोग लेने के लिए वर्चुअल ICU की सुविधा को सुदृढ़ करने के लिए निर्देश दिए गए. अस्पातल में CCTV स्थापित करने के साथ ही प्रशासन सुनिश्चित करें कि सीनियर डॉक्टर निरंतर राउंड लेते रहें. ऑनलाइन बुकिंग की व्यवस्था चालू कर इमरजेंसी व अति इमरजेंसी मरीजों को ही OPD में प्रवेश दें. साथ ही IMA (Indian Medical Association) को जोड़कर विशेषज्ञों का पैनल स्थापित हो, जिससे बाकी मरीजों के लिए टेली-मेडिसिन सुविधा उपलब्ध की जाए.

112 के माध्यम से लोगों में बढ़ाएं जागरूकता
पब्लिक एड्रेस सिस्टम एवं @112UttarPradesh के माध्यम से शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क की अनिवार्यता व डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए जागरूकता फैलाएं. कोविड प्रोटोकॉल तोड़ने वालों के खिलाफ सद्भावनापूर्वक कार्रवाई की जाए. शादी-समारोह में सुनिश्चित करें कि ज्यादा भीड़ न हो और लोग अनिवार्य रूप से मास्क और डिस्टेंसिंग का पालन करें.

यह भी पढ़ेंः- घोर लापरवाही: कोरोना संक्रमित को रस्सी से घेरकर पेट्रोल पंप पर ही कर दिया आइसोलेट

500 कोविड मरीज मिलने पर लगाएं नाइट कर्फ्यू
शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के हर वार्ड/ग्राम पंचायत में निगरानी समितियां गठित हों. उन्हें कमांड एवं कंट्रोल सेंटर से जोड़कर सुनिश्चत किया जाए कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी डिस्टेंसिंग और गाइडलाइन का पालन हो. सीएम ने ये भी निर्देश दिए कि 500 से अधिक कोविड के मरीजों वाली जगहों पर नाइट कर्फ्यू लागू करें.

11 से 14 तक हो 'टीका उत्सव'
सीएम ने निर्देश दिए कि सभी सरकारी व प्राइवेट कार्यालयों/प्रतिष्ठानों में कोविड हेल्प सेंटर अनिवार्य रूप से स्थापित हो. इन स्थानों पर पल्स ऑक्सीमीटर व थर्मामीटर उपलब्ध करवाएं. इसके साथ ही सीएम ने प्रदेश में 11 से 14 अप्रैल के बीच 'टीका उत्सव' आयोजित करने के निर्देश दिए. इस दौरान वैक्सीन का न्यूनतम दुरुपयोग सुनिश्चित हो.

यह भी पढ़ेंः- UP पंचायत चुनाव: भीड़ जुटाकर जुलूस निकाल रहे थे BSP विधायक, पत्नी समेत दर्ज हुआ केस

WATCH LIVE TV