close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत बोले, 'पीएम मोदी की केदारनाथ, बद्रीनाथ यात्रा की आलोचना दुर्भाग्यपूर्ण'

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के दो दिवसीय उत्तराखंड भ्रमण से उत्तराखंड को लाभ हुआ और वह उत्तराखंड के भविष्य को लंबे समय तक प्रभावित करेगा .

 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत बोले, 'पीएम मोदी की केदारनाथ, बद्रीनाथ यात्रा की आलोचना दुर्भाग्यपूर्ण'
(फोटो साभार @tsrawatbjp)

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केदारनाथ-बद्रीनाथ यात्रा को लेकर विपक्षी दलों द्वारा की जा रही आलोचना को 'अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण' बताते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को योग साधना गुफा को स्टेट ऑफ आर्ट (अत्याधुनिक) बताने वाले आलोचकों को चुनौती देते हुए कहा कि वे स्वयं वहां जाकर एक दिन गुफा में बिता कर आएं. एक बयान में मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा को लेकर कुछ लोगों ने गलत टिप्पणी की हैं जो अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है .

उन्होंने कहा, 'एक मीडिया हाउस ने योग साधना गुफा के बारे में लिखा है कि यह स्टेट ऑफ आर्ट है. इस तरह की बयानबाजी करने वाले लोगों को मैं आमंत्रित करता हूं कि वे वहां जाकर उसे देखें तथा उस गुफा में एक दिन रुकें. वहां जाने की उनकी सारी व्यवस्थाएं हम करेंगे.’

'विपक्ष बौखला गया है' 
रावत ने प्रधानमंत्री की केदारनाथ और बद्रीनाथ यात्रा को लेकर विपक्ष द्वारा की जा रही आलोचनाओं के बारे में कहा कि एग्जिट पोल में प्रधानमंत्री पर जनता का एक बार फिर विश्वास साफ नजर आ रहा है जिसे देखकर विपक्ष बौखला गया है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने पिछले पांच वर्षों में बिना रुके बिना किसी छुट्टी के देश के लिए काम लिया है और इसीलिए देश की जनता ने उन्हें अपना आशीर्वाद दिया है. रावत ने दावा किया कि एनडीए निश्चित रूप से 300 सीटों का आकंड़ा पार करेगा.

'पीएम के दौरे से हुए उत्तराखंड को लाभ' 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने चुनाव के दौरान पूरे देश में 250 से अधिक सभाएं कीं और उसके बाद वह उत्तराखंड 'ऑफिशियल विजिट' पर आए थे . रावत ने कहा कि वह कोई अवकाश पर नहीं थे ऑफिशियिल विजिट पर आए थे .

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के दो दिवसीय उत्तराखंड भ्रमण से उत्तराखंड को लाभ हुआ और वह उत्तराखंड के भविष्य को लंबे समय तक प्रभावित करेगा .