केंद्रीय मंत्री वीके सिंह का दावा- हरिद्वार कुंभ से पहले बनकर तैयार हो जाएगा 'ऑल वेदर रोड'

केंद्रीय सड़क परिवहन राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा कि अधिकारियों को 'ऑल वेदर रोड' के निर्माण के लिए जरूरी निर्देश दिए गए हैं. इस प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग की जा रही है और समीक्षा भी हो रही है. हम रोड का निर्माण कार्य समय पर पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. 

केंद्रीय मंत्री वीके सिंह का दावा- हरिद्वार कुंभ से पहले बनकर तैयार हो जाएगा 'ऑल वेदर रोड'
केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने हरिद्वार कुंभ से पहले 'ऑल वेदर रोड' का काम पूरा होने की बात कही है.

राम अनुज/देहरादून: केंद्रीय सड़क परिवहन राज्य मंत्री वीके सिंह ने उत्तराखंड में बन रहे 'ऑल वेदर रोड' का 70 फीसदी निर्माण कार्य पूरा होने का दावा किया है. उनका कहना है कि अगले साल हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले से पहले इस रोड का निर्माण कार्य संपन्न कर लिया जाएगा. 

वीके सिंह ने कहा कि निर्माण कार्य में आ रही दिक्कतों को जल्दी से दूर करने की कोशिश की जा रही है. केंद्रीय मंत्री ने बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री को जोड़ने वाले 'ऑल वेदर रोड' के निर्माण कार्य का हवाई सर्वेक्षण किया और अधिकारियों से इस प्रोजेक्ट की प्राग्रेस रिपोर्ट के बारे में चर्चा की.

'ऑल वेदर रोड' प्रोजेक्ट की मॉनिटरिंग हो रही है
केंद्रीय सड़क परिवहन राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा कि अधिकारियों को 'ऑल वेदर रोड' के निर्माण के लिए जरूरी निर्देश दिए गए हैं. इस प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग की जा रही है और समीक्षा भी हो रही है. हम रोड का निर्माण कार्य समय पर पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. 

फॉरेस्ट क्लीयरेंस नहीं मिलने से काम रुका पड़ा था
आपको बता दें कि ऋषिकेश से बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री धाम के लिए 'ऑल वेदर रोड' का निर्माण किया जा रहा है.  लेकिन फॉरेस्ट क्लीयरेंस ना मिलने की वजह से कई स्थानों पर इस सड़क का निर्माण कार्य रुका हुआ है. केंद्रीय मंत्री वीके सिंह का दावा है कि प्रोजेक्ट में आ रही अड़चनों को जल्द ही दूर कर लिया जाएगा. 

'ऑल वेदर रोड' से चारधाम यात्रा हो जाएगी आसान
बकौल वीके सिंह 'ऑल वेदर रोड' का निर्माण तय समय में खत्म कर लिया जाएगा. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस रोड के बन जाने के बाद चारधाम यात्रा काफी आसान हो जाएगी. श्रद्धालु अपनी गाड़ियों से चारधाम के अंतर्गत आने वाले केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री तक आसानी से पहुंच सकेंगे.