close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उन्नाव रेप केसः सड़क हादसे के बाद विपक्ष ने राजनीतिक जमीन तलाशने की कवायद शुरू की

 बीते रविवार को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में उन्नाव रेप की पीड़िता अपने परिवार संग एक दर्दनाक सड़क हादसे का शिकार हो गई.

उन्नाव रेप केसः सड़क हादसे के बाद विपक्ष ने राजनीतिक जमीन तलाशने की कवायद शुरू की
फाइल फोटो.

उन्नाव: बीते रविवार को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में उन्नाव रेप की पीड़िता अपने परिवार संग एक दर्दनाक सड़क हादसे का शिकार हो गई. ट्रक से हुए जोरदार टक्कर मे पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो चुकी है, वही गंभीर हालत में रेप पीड़िता और पीड़िता के वकील को लखनऊ ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था. आपको बता दें कि रेप पीड़िता  अपने चाचा से मिलने रायबरेली जेल जा रही थी उस समय ट्रक ने कार को जोरदार टक्कर मार दी थी. हादसे के  समय हमेशा साथ रहने वाला गॉर्ड उनके साथ मौजूद नहीं था. 

रायबरेली जाते वक्त उसी दौरान एक ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मार दी. इसमें कार में सवार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे. हादसे की स्थिति को वाहन की टक्कर से भी समझा जा सकता है.एक्सीडेंट के मामले आरोपी ट्रक चालक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था जांच में यह मालूम चला कि  ट्रक के मालिक का समंध सपा पार्टी से भी है.

पीड़ित परिवार पूरे मामले को सोची समझी साजिश बता रहा है. लगातार पीड़ित परिवार यह आरोप लगा रहा कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने यह एक्सीडेंट करवाया है. मंगलवार को पीड़ित परिवार के दबाव और अपोजिशन के लगातार विरोध पर सरकार ने सीबीआई जांच के लिए केस की फाइल केंद्र को बढ़ा दी है. लगातार विपक्षी पार्टी सरकार को घेरने की कोशिश कर रही है. राहुल गांधी से लेकर अखिलेश यादव ने भी सरकार पर तीखी टिप्पणी की है. संसद में भी सरकार का काफी विरोध किया गया है.  

पीड़ित परिवार के लोग सुबह से ही मंगलवार को ट्रॉमा सेंटर के बाहर धरने पर बैठ गए थे उनकी मांग थी कि वीरता के चाचा जो कि रायबरेली जेल में बंद हैं उनको पैरोल पर रिहा किया जाए तभी जाकर के हुए दुर्घटना की शिकार हुई मौसी और चाची का अंतिम संस्कार करने के लिए जाएंगे लगभग 4 घंटे तक पीड़ित परिवार ने ट्रॉमा सेंटर के बाहर धरना प्रदर्शन किया स्थानीय प्रशासन ने उनको समझाने की कोशिश की लेकिन उनका सीधे तौर पर कहना था कि पहले चाचा को पैरोल पर छोड़े. वहीं पीड़िता के चाचा रायबरेली जेल में बंद हैं उनको 1 दिन की पैरोल मिली है.

मेडिकल कंडीशन
डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता और उनके एडवोकेट की हालत अभी भी क्रिटिकल बनी हुई है लगातार उनकी मॉनिटरिंग हो रही है बीते सोमवार को परिवार ने उनके इलाज के लिए उनको दिल्ली ले जाने की बात कही थी लेकिन ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टरों के मुताबिक सबसे बेहतर और सबसे उच्चतम उपचार दिया जा रहा है.

घटना के बाद का वीडियो निकल के सामने आया
रायबरेली में हुए सड़क और कार के भिड़ंत के बाद का वीडियो सामने आ गया है इस वीडियो से अनुमान लगाया जा सकता है कितना दर्दनाक और कितना भयंकर यह भिड़ंत हुआ होगा कार में पीड़िता उनके एडवोकेट मौसी और चाची मौजूद थी ग्रामीणों द्वारा यह वीडियो बनाया गया है.