close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट केस: फतेहपुर का रहने वाला है ट्रक चालक

आरोपी ट्रक चालक ललौली के मुत्तौर का रहने वाला बताया जा रहा है, जो पिछले दो सालों से देवेंद्र किशोर पाल का ट्रक चला रहा था. 

उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट केस: फतेहपुर का रहने वाला है ट्रक चालक
इसी ट्रक ने रेप पीड़िता के कार में टक्कर मरी थी.

फतेहपुर: उन्नाव रेपकांड में पीड़िता के साथ हुए हादसे के मामले में नया मोड़ ले लिया है. उन्नाव रेप पीड़िता के कार एक्सीडेंट मामले में यूपी पुलिस ने सोमवार को बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत 10 लोगों पर हत्या की एफआईआर दर्ज कर ली है. कार में टक्कर मारने वाला ट्रक चालक और मालिक दोनों ही फतेहपुर जनपद का रहने वाला बताया जा रहा है. 

दो साल से ट्रक चला रहा था आरोपी
जानकारी के मुताबिक, ट्रक मालिक का बड़ा भाई जिले में सपा नेता है, जिसका नाम देवेंद्र किशोर पाल बताया जा रहा है, जो ललौली का रहने वाला है. ट्रक नंबर UP 71 AT 8300 है, जिससे कार का एक्सीडेंट हुआ है. वहीं, ट्रक चालक का नाम अमित पाल बताया जा रहा है. आरोपी ट्रक चालक ललौली के मुत्तौर का रहने वाला बताया जा रहा है, जो पिछले दो सालों से देवेंद्र किशोर पाल का ट्रक चला रहा था. 

सपा कनेक्शन
देवेंद्र किशोर की भाभी बहुआ ब्लाक से ब्लाक प्रमुख रह चुकी है और यह लोग सपा की राजनीति करते है, देवेंद्र की पत्नी ललौली से प्रधान रह चुकी है, दोनों भाई सपाई हैं. 

लाइव टीवी देखें

रविवार दोपहर हुआ था हादसा
रविवार दोपहर 1 बजे की है जब उन्नाव रेप पीड़िता को लेकर जा रही कार और ट्रक में आमने-सामने की टक्कर हुई. इस दुर्घटना में तीन लोगों की मौत हुई है. जबकि पीड़िता और उसके वकील की हालत गंभीर है. मामले में पुलिस की फॉरेंसिक टीम जांच कर रही है. साथ ही ट्रक ड्राइवर, क्लीनर, ट्रक मालिक, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके साथियों के मोबाइल नंबरों की भी जांच की जा रही है. 

हादसे की होगी सीबीआई जांच 
रायबरेली में उन्नाव की रेप पीड़िता की कार में टक्कर मारने के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार देर रात सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी. इस संबंध में केन्द्र सरकार को औपचारिक पत्र भेज दिया गया है. परिवार कर रहा था मांग: पीड़िता का परिवार सोमवार सुबह से ही इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहा था. इसी कड़ी में मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार ने रात में रायबरेली एसपी की रिपोर्ट, फोरेंसिक जांच की अब तक की पड़ताल, हत्या की एफआईआर और कुछ अन्य दस्तावेज मंगवाये.