close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उन्‍नाव रेप पीडि़ता मामले में शुरू हुई सियासत, ट्रामा सेंटर पहुंचे कांग्रेस नेता

उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने ट्रामा सेंटर पहुंचे कांग्रेसी नेताओं को पीडि़ता से मुलाकात की इजाजत नहीं दी है.

उन्‍नाव रेप पीडि़ता मामले में शुरू हुई सियासत, ट्रामा सेंटर पहुंचे कांग्रेस नेता
सपा ने की पूरे मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: उन्‍नाव रेप पीडि़ता एक्सिडेंट मामले में सूबे की सियासत गर्म होने लगी है. पूरे मामले का राजनीतिकरण करते हुए सोमवार सुबह कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल दुर्घटना में जख्‍मी हुई उन्‍नाव रेप पीडि़ता से मिलने ट्रासा सेंटर पहुंच गए. हालांकि, मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल ने कांग्रेस नेताओं को पीडि़ता से मिलने की इजाजत नहीं दी गई. 

वहीं, दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के साथ हुई सड़क दुर्घटना की सीबीआई जांच की मांग की है. ज्ञात को कि इस दुर्घटना में पीड़िता की दो महिला रिश्तेदारों की मौत हो गई है. अखिलेश का कहना है कि पीड़िता को सुरक्षा प्रदान की गई है, लेकिन दुर्घटना के दौरान उनके साथ एक भी सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं था.

उन्होंने कहा कि यह दुर्घटना बस एक दुर्घटना थी या फिर पीड़िता के परिवार को खत्म करने की साजिश थी, इसकी सीबीआई जांच जरूर होनी चाहिए. वहीं कांग्रेस ने भी इस दुर्घटना की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग की है. अदालत ने पिछले साल दुष्कर्म पीड़िता के परिवार को सुरक्षा प्रदान करने का आदेश दिया था, लेकिन परिवार के साथ कोई सुरक्षा गार्ड नहीं था.

उल्‍लेखनीय है कि रविवार शाम राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 पर पीड़िता की कार से एक ट्रक टकरा गया था. दुर्घटना में उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता और उसके वकील महेंद्र सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. दुर्घटना में पीड़िता की चाची व अन्य एक महिला की मौत हो गई. यह सभी दुष्कर्म पीड़िता के चाचा से मिलकर वापस आ रहे थे, जो जालसाजी के मामले में रायबरेली जेल में बंद है. ट्रक के मालिक देवेंद्र सिंह और चालक आशीष पाल को गिरफ्तार कर लिया गया है.