23 अगस्त से यूपी विधानसभा का मानसून सत्र शुरू, सुचारू रूप से सदन चलाने की अपील

विधानसभाध्यक्ष द्वारा बुलाई गई इस सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम रचनात्मक बहस, विचार-विमर्श को बढ़ावा के साथ अधिकतम चर्चा एवं अधिक समय तक सदन की कार्यवाही चलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. 

23 अगस्त से यूपी विधानसभा का मानसून सत्र शुरू, सुचारू रूप से सदन चलाने की अपील
यूपी विधानसभा. (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने 23 अगस्त से प्रारम्भ हो रहे मानसून सत्र को सुचारू रूप से संचालित करने हेतु सभी दलों के नेताओं से सहयोग प्रदान करने का अनुरोध किया है. विधानसभाध्यक्ष द्वारा बुलाई गई इस सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम रचनात्मक बहस, विचार-विमर्श को बढ़ावा के साथ अधिकतम चर्चा एवं अधिक समय तक सदन की कार्यवाही चलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार सभी विषयों पर चर्चा के लिए तैयार है. हम सदन में उठाए जाने वाले मुद्दों व जनता की समस्याओं के निराकरण के लिए भी तत्पर हैं. उन्होंने सदन को सुचारू रूप से चलाने की अपील की. 

अध्यक्ष दीक्षित ने सभी दलीय नेताओं से अनुरोध किया कि वे अपना-अपना पक्ष सदन में शालीनता तथा संसदीय मर्यादा के साथ रखें. बहस की गुणवत्ता बनाए रखें. उन्होंने कहा कि कोई भी व्यवस्था आदर्श नहीं हो सकती, उसकी गुणवत्ता में सुधार हेतु सदैव गुंजाइश बनी रहती है. उन्होंने कहा कि दुनिया के सभी लोकतांत्रिक देशों में पक्ष होता है, विपक्ष होता है, सहमतियां होती हैं, असहमतियां होती हैं, तर्क होता है, प्रति तर्क होता है. वाद-विवाद होते हैं.

UP में शुरू होगी 'सर्वश्रेष्ठ विधायक' को पुरस्कार देने की परंपरा, ह्रदय नारायण दीक्षित ने दिए संकेत

बैठक में नेता विरोधी दल राम गोविन्द चौधरी, बहुजन समाज पार्टी के नेता लालजी वर्मा, कांग्रेस दल के नेता अजय कुमार उर्फ लल्लू ने भी अपना विचार प्रकट करते हुए सदन की कार्यवाही को व्यवस्थित रूप से चलाने में प्रत्येक प्रकार से सहयोग देने का आश्वासन दिया. नेता विपक्ष ने कहा कि वर्तमान समय में लोकतंत्र सिकुड़ता जा रहा है. विधानसभा में विभिन्न विषयों पर पर्याप्त चर्चा नहीं हो पाती है. उन्होंने सत्र के दिनों को बढ़ाकर चर्चा कराये जाने की मांग की.

बसपा के लाल जी वर्मा ने सदन में संचालन में सहयोग का आश्वासन दिया और सदन की मर्यादा के उल्लंघन पर चिंता व्यक्त की. सुहेलदेव समाज पार्टी के नेता ओम प्रकाश राजभर ने भी बैठक में भाग लिया. बैठक के अंत में सभी दलीय नेताओं ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर उनके परिजनों के प्रति गहरी सहानुभूति व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा.

(इनपुट-भाषा)