UP ATS ने उत्तराखंड से ISI संदिग्ध को किया गिरफ्तार, पाकिस्तानी मोबाइल बरामद

उत्तर प्रदेश ATS (एंटी टेररिज्म स्क्वॉड) ने उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के डीडीहाट से ISI के एक एजेंट को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए ISI एजेंट का नाम रमेश सिंह कन्याल है. 

UP ATS ने उत्तराखंड से ISI संदिग्ध को किया गिरफ्तार, पाकिस्तानी मोबाइल बरामद
आरोपी को उत्तराखंड से लखनऊ लाया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ/देहरादून: उत्तर प्रदेश ATS (एंटी टेररिज्म स्क्वॉड) ने उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के डीडीहाट से ISI के एक एजेंट को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए ISI एजेंट का नाम रमेश सिंह कन्याल है. इसको लेकर पुलिस ने कई अहम खुलासे किए हैं. उत्तराखंड के ADG, लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने बताया कि रमेश पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग में नियुक्त एक अधिकारी के साथ घरेलू कार्य के लिए इस्लामाबाद गया था. वहां वो भारतीय सेना के अफसर के साथ 2 साल से ज्यादा वक्त तक रहा. इस दौरान वह ISI के लिए सेना के अफसर की जासूसी करता रहा. रमेश जब भी भारत आता था तो डॉलर के रूप में बड़ी रकम लेकर आता था. भारत आने पर वह दिल्ली में बैंकों से डॉलर को रुपए में बदलता था. 

पाकिस्तानी ब्रांड का मोबाइल और 3 सिम बरामद
रमेश के पास से QMobile ब्रांड का एक मोबाइल, 3 सिम और एक पाकिस्तानी चिप मिला है. रमेश सिंतबर 2017 में भारत वापस लौट आया था, तभी से सुरक्षा एजेंसियों की नजर उस पर थी. ADG, आनंद कुमार ने कहा कि रमेश को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है कि वो पाकिस्तान में किन-किन लोगों से मिला और उसने कौन सी सूचनाएं लीक की हैं. उससे यह भी जानने की कोशिश की जा रही है कि वर्तमान में वह ISI के लिए क्या काम कर रहा है और किस तरह की सूचनाओं के लिए उसे ISI से निर्देश मिले हैं.

 

पकडा़ गया आरोपी रमेश सिंह कन्याल डीडीहाट थाना क्षेत्र के खेतार किरोली गांव का रहने वाला है. बुधवार रात को करीब 10 बजे उसकी गिरफ्तारी हुई. गिरफ्तारी के बाद अलग-अलग इंटेलिजेंस एजेंसियों ने उससे पूछताछ की. ATS की पांच लोगों की टीम डीडीहाट पहुंच कर उसे गिरफ्तार किया. गिरफ्तार करने के बाद डीडीहाट सेशन कोर्ट से आरोपी को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर लखनऊ ले जाया गया. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आरोपी मई 2015 से सितंबर 2017 तक पाकिस्तान में रहा था. लखनऊ ATS ने 20 मई को आरोपी के खिलाफ लखनऊ में मामला दर्ज कराया था.