धर्मांतरण रैकेट: कानपुर के आदित्य गुप्ता को बनाया अब्दुल कादिर, 18 मूक-बधिर छात्रों का बदलवाया मजहब
X

धर्मांतरण रैकेट: कानपुर के आदित्य गुप्ता को बनाया अब्दुल कादिर, 18 मूक-बधिर छात्रों का बदलवाया मजहब

यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार के मुताबिक नोएडा स्थित एक मूक-बधिर स्कूल के 18 बच्चों का धर्मांतरण कराया गया है. यह रैकेट दो साल से चल रहा था. 

धर्मांतरण रैकेट: कानपुर के आदित्य गुप्ता को बनाया अब्दुल कादिर, 18 मूक-बधिर छात्रों का बदलवाया मजहब

लखनऊ: यूपी एटीएस ने मूक-बधिर छात्रों, बेसहारा महिलाओं को धन, नौकरी व शादी का लालच देकर धर्मांतरण कराने वाले मोहम्मद उमर और मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी नाम के दो लोगों को गिरफ्तार किया है. यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि इन दोनों ने करीब एक हजार से ज्यादा लोगों को लालच देकर उनका धर्म परिवर्तन कराया है. धर्मांतरण मामले के तार कानपुर से भी जुड़े हैं. 

दरअसल, इस गैंग ने कानपुर के मूक-बधिर आदित्य गुप्ता का भी धर्मांतरण कराया गया था. जिसे इन्होंने अब्दुल कादिर बना दिया. आदित्य मार्च के महीने में घर से लापता हो गया था. जो कल रहस्यमय हालात में घर वापस लौट आया था. परिवार को उसके धर्मांतरण के बारे में जानकारी घर में तलाशी के दौरान मिले अब्दुल कादिर नाम के कन्वर्जन सर्टिफिकेट से हुई. हालांकि परिवार को अभी तक यह नहीं पता चला है कि असल में वह गैंग में कैसे फंस गया. 

यूपी धर्मांतरण रैकेट: मूक-बधिर थे निशाना ताकि छिपा रहे कारनामा, खुद हिंदू से मुस्लिम बना एक आरोपी

इसके अलावा इसी गिरोह द्वारा नोएडा डेफ सोसायटी के छात्र मन्नू यादव को धर्मांतरण कर मुस्लिम बनाने का मामला सामने आया. मन्नू के भाई अंकित यादव के मुताबिक उसका भाई सेक्टर 14 के डम्ब एन्ड डेफ सोसायटी में पढ़ता था. अंकित के मुताबिक़ पुलिस कमिश्नर से शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. साथ ही उसने कहा कि रैकेट में स्कूल भी शामिल है. 

यूपी धर्मांतरण रैकेट पर 10 बड़े खुलासे, जानिए मौलाना उमर और जहांगीर तक कैसी पहुंची यूपी एटीएस

नोएडा स्थित मूक-बधिर स्कूल के 18 बच्चों का धर्मांतरण
यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार के मुताबिक नोएडा स्थित एक मूक-बधिर स्कूल के 18 बच्चों का धर्मांतरण कराया गया है. यह रैकेट दो साल से चल रहा था. इन आरोपियों के तार देशभर में हो सकते हैं. गिरफ्तार कर आरोपियों को दिल्ली से लखनऊ लाया जा रहा है. यूपी एटीएस ने इस काम में विदेश फंडिंग की आशंका से इनकार नहीं किया है.

मूक-बधिर, गरीब, बेसहारा महिलाएं थे निशाना
इसके अलावा कमजोर आय वर्ग के लोगों और बेसहारा महिलाओं को धन, नौकरी व शादी का लालच देकर ये दोनों उनका धर्मांतरण कराते थे. एटीएस के मुताबिक उमर और जहांगीर अब तक 1000 से अधिक लोगों का इस्लाम में धर्मांतरण करा चुके हैं. दरअसल, 2 जून को दो लोग जबरन डासना मंदिर में दाखिल होने की कोशिश कर रहे थे.

आरोपी मोहम्मद उमर धर्म परिवर्तन कर हिंदू से बना मुसलमान 
मोहम्मद उमर खुद धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम बना है. उसके पिता का नाम धनराज सिंह गौतम है. दोनों दिल्ली के जामिया नगर के रहने वाले हैं. यूपी एटीएस के मुताबिक ये दोनों धर्मांतरण के लिए मूक-बधिर बच्चों और वयस्कों को टारगेट करते थे. कारण कि इनके मूक-बधिर होने के कारण धर्मांतरण की बात आसानी से किसी को पता नहीं चल सकेगी. इनका रैकेट नोएडा, मथुरा और कानपुर में फैला है.

WATCH LIVE TV

Trending news