close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कानपुर के गौतम रघुवंशी ने 10वीं में किया टॉप, इंजीनियर बनने की है चाहत

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की 2019 की हाईस्कूल की परीक्षा में कानपुर के ओंकारेश्वर एसवीएन इंटर कालेज के गौतम रघुवंशी ने प्रथम स्थान हासिल किया है. गौतम रघुवंशी ने 97.17 प्रतिशत अंक प्राप्त किए. 

कानपुर के गौतम रघुवंशी ने 10वीं में किया टॉप, इंजीनियर बनने की है चाहत
गौतम रघुवंशी ने 600 में 583 अंक प्राप्त कर हाईस्कूल बोर्ड में टॉप किया है.

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की 2019 की हाईस्कूल की परीक्षा में कानपुर के ओंकारेश्वर एसवीएन इंटर कालेज के गौतम रघुवंशी ने प्रथम स्थान हासिल किया है. शनिवार को करीब एक बजे यूपी बोर्ड का रिजल्ट जारी हुआ. शिक्षा निदेशक (माध्यमिक) विनय कुमार पांडेय ने संवाददाताओं को बताया कि हाईस्कूल की परीक्षा में कानपुर के गौतम रघुवंशी ने 97.17 प्रतिशत अंक प्राप्त किए. 

600 में मिले 583 अंक
गौतम रघुवंशी ने 600 में 583 अंक प्राप्त कर हाईस्कूल बोर्ड में टॉप किया है. गौतम ने अपनी सफलता का श्रेय अपने अध्यापकों और परिवार को दिया है.  धीरज रघुवंशी के बेटे गौतम रघुवंशी ने कहा कि वह इंजीनियर बनना चाहते हैं. उनकी चाहत है कि आईआईटी मुंबई से इंजीनियरिंग करें और उसके बाद सेना में बतौर इंजीनियर भर्ती होकर देश की सेवा करें. 

रोज करता था घंटों पढ़ाई
गौतम के पिता धीरज रघुवंशी बेटे की सफलता से बेहद खुश हैं. उन्होंने बताया कि बेटे की ललक को देखकर उन्हें लगता था कि बेटा सफलता जरूर हासिल करेगा. उन्होंने बताया कि उसने 10वीं की तैयारी के लिए एक साल से टीवी से दूर थी. सोशल मीडिया से वह दूर था और रोज 8 से 10 घंटे पढ़ाई करता था. 

लाइव टीवी देखे

 

मुफ्फरनगर में पास हुए सबसे ज्यादा बच्चे 
हाईस्कूल की परीक्षा में सबसे अच्छा प्रदर्शन मुफ्फरनगर जिले का रहा, जहां 91.80 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए. वहीं, इंटरमीडिएट की परीक्षा में सबसे अच्छा प्रदर्शन लखनऊ का रहा जहां 89.28 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए. वहीं, हाईस्कूल में सबसे खराब प्रदर्शन मिर्जापुर जिले का रहा, जहां 67.64 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए. इसी तरह, इंटरमीडिएट में सबसे खराब प्रदर्शन हाथरस जिले का रहा जहां महज 48.62 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए.