UP Board में फेल हुईं एक ही इंटर कॉलेज की 120 छात्राएं, प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगा खड़ा कर दिया हंगामा

यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं रिजल्ट (UP Board Result) आने के बाद मुरादाबाद के सत्य साईं कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं का रिजल्ट अच्छा नहीं रहा. यहां के 120 स्टूडेंट्स फेल हो गए. ऐसे में छात्राओं ने कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं.

UP Board में फेल हुईं एक ही इंटर कॉलेज की 120 छात्राएं, प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगा खड़ा कर दिया हंगामा

मुरादाबाद: यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं रिजल्ट (UP Board Result) आने के बाद मुरादाबाद के सत्य साईं कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं का रिजल्ट अच्छा नहीं रहा. यहां के 120 स्टूडेंट्स फेल हो गए. ऐसे में छात्राओं ने कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. उनका आरोप है कि फीस भरने में असक्षम होने पर उन्हें जबरदस्ती फेल किया गया है. ऐसे में छात्राओं ने कॉलेज में जमकर नारेबाजी की और कॉलेज के गेट पर धरना प्रदर्शन शुरू कर हंगामा खड़ा कर दिया. देर रात तक मुरादाबाद के प्रशासनिक अधिकारी कॉलेज के आगे धरने पर बैठी छात्राओं को समझाते रहे, लेकिन वह किसी भी कीमत पर बिना पास किये उठने को तैयार नहीं हैं. 

आर्थिक संकट के कारण नहीं भर पाईं फीस
छात्राओं का आरोप है कि उनके पिता ने कोरोना काल में आर्थिक संकट के चलते पूरी फीस जमा नहीं की थी. लेकिन छात्राओं ने परीक्षा के लिए रजिस्टर किया था. जब आज रिजल्ट आया तो इंटर कॉलेज की 120 लड़कियां फेल हो गईं. जब इसकी वजह निकालने की कोशिश की गई तो पता चला कि फीस जमा न करने के कारण स्कूल प्रिंसिपल ने इंटरनल एसेसमेंट में उनकी गैर हाजरी लगा दी. इस वजह से छात्राएं फेल हो गईं.

कॉलेज ने दी सफाई- फीस की वजह से नहीं हुआ ऐसा
मुरादाबाद में 10वीं और 12वीं क्लास की छात्राओं ने यूपी बोर्ड के रिजल्ट में खुद को एबसेंट पाया. इसके बाद उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया. वहीं, कॉलेज प्रबंधन ने छात्राओं को समझाने की कोशिश की कि किसी गलती की वजह से ऐसा हुआ है. थोड़ा सब्र करें, आला अधिकारियों से बात कर इसका समाधान निकाला जाएगा. लेकिन छात्राएं और उनके परिजन मानने को तैयार नहीं थे. 

पुलिस ने की छात्राओं को समझाने की कोशिश
जानकारी मिलने पर मौके पर थाना मझोला पुलिस भी पहुंच गई, लेकिन छात्राएं लगातार नारेबाजी करती हुई कॉलेज के आगे बैठी रहीं. देर रात मुरादाबाद के एडिशनल सिटी मजिस्ट्रेट जगमोहन गुप्ता भी धरना स्थल पर पहुंचे और छात्राओं को समझाया कि उनके जो आरोप हैं उस मामले में एक टीम का गठन किया जा रहा है. जो भी जांच में सामने आएगा, उसके हिसाब से उचित एक्शन लिया जाएगा.

खराब नहीं होने देंगे किसी का साल
वहीं, इंटर कॉलेज की सहायक प्रधानाध्यापक की मानें तो फीस को लेकर ऐसा नहीं हुआ है. क्योंकि कोरोनावायरस में उन्हें भी लोगों पर आए आर्थिक संकट की जानकारी थी. हो सकता है जानकारी के अभाव में इन छात्राओं के रिजल्ट के आगे अनुपस्थित लिख कर आया है. इस मामले में बोर्ड के अधिकारियों से बात की जाएगी. किसी का साल खराब नहीं होगा. 

WATCH LIVE TV