close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूपी कैबिनेट की बैठक आज, इन अहम प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

पहले यह कैबिनेट बैठक मंगलवार को भैया दूज के दिन होने वाली थी, लेकिन कुछ मंत्रियों के बाहर होने की वजह से बैठक को स्थगित कर दिया गया था.

यूपी कैबिनेट की बैठक आज, इन अहम प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर
सीएम योगी की फाइल फोटो.

लखनऊ, अंजली मुदगल: लखनऊ (Lucknow) के लोकभवन में शुक्रवार (01 नवंबर) यूपी कैबिनेट (UP cabinet) की अहम बैठक होगी. शाम 6 बजे होने वाली इस बैठक में कई अहम फैसले होने की उम्मीद है. इस बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और सभी मंत्री शामिल रहेंगे. पहले यह कैबिनेट बैठक मंगलवार को भैया दूज के दिन होने वाली थी, लेकिन कुछ मंत्रियों के बाहर होने की वजह से बैठक को स्थगित कर दिया गया था.

आज होने वाली बैठक में कई अहम फैसले लिए जा सकते हैं. कैबिनेट बैठक में बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के निविदा दस्तावेजों को मंजूरी दी जाएगी. बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के लिए जिन कंपनियों ने निविदा डाली हैं, उनमें से सबसे न्यूनतम रेट वाली कंपनियों का इन दोनों एक्सप्रेस वे के निर्माण के लिए चयन किया जाएगा. 

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के निर्माण से इस क्षेत्र का खासा विकास हो सकेगा. इसके अलावा डिफेंस कॉरिडोर के निर्माण को भी बढ़ावा मिल सकेगा. वहीं गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के निर्माण से लखनऊ-गोरखपुर के आवागमन में खासी सुविधा मिलेगी. बैठक में वाराणसी में दो नए थाने की स्थापना के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिल सकती है. इनमें एक पर्यटक पुलिस थाना होगा. मुख्यमंत्री ने वाराणसी में पर्यटक पुलिस थाना की स्थापना की घोषणा की थी.

कैबिनेट में प्रदेश में 28 विकास खंडों के सृजन को निरस्त किए जाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी जाएगी. प्रदेश की सौर ऊर्जा नीति के तहत यूपीनेडा द्वारा 500 मेगावाट क्षमता का संयंत्र लगाने के लिए प्रतिस्पर्धात्मक निविदा दस्तावेजों के आधार पर कंपनियों के चयन प्रस्ताव को मंजूरी दी जाएगी.

लाइव टीवी देखें

इसके अलावा उत्तर प्रदेश दंड विधि (अपराधों का शमन और विचारणों का उप शमन) संशोधन विधेयक के मसौदे को मंजूरी दी जा सकती है. आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की नीति और कुछ कर्मचारियों के भत्तों में कटौती के प्रस्ताव भी स्वीकृत किए जा सकते हैं. बैठक में मंत्रियों को आगे के कार्यक्रम और एजेंडा सौंपने के साथ अयोध्या को लेकर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के मद्देनजर भी निर्देश दिए जाने के संकेत हैं.