यूपी सरकार के सभी विभागों का हुआ राजभवन में प्रेजेंटेशन, राज्यपाल ने साझा किए सुझाव

आनंदीबेन पटेल ने राजभवन (Raj Bhawan) में सभी मंत्रियों से उनके सभी विभागों की जानकारी ली और उन्होंने कार्य और अधिक अच्छे से करने के लिए कुछ सुझाव भी दिए. 

यूपी सरकार के सभी विभागों का हुआ राजभवन में प्रेजेंटेशन, राज्यपाल ने साझा किए सुझाव
यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार (Yogi Government) ने गुरुवार को राजभवन में यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के सामने अपने कामों का प्रेजेंटेशन दिया. इस दौरान उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने यूपी के राज्यपाल के तौर पर सभी मंत्रियों को संबोधित भी किया. राजभवन में शाम 4 बजे के करीब शुरू हुआ प्रेजेंटेशन 7 बजे तक चला. जिसमें यूपी सीएम (UP CM) ने सरकार की तरफ से चलायी जा रही विकास की योजनाओं के बारे में राज्यपाल को अवगत कराया गया. राज्यपाल को मुख्यमंत्री ने प्रदेश में चल रही केन्द्र एवं राज्य सरकार की तमाम योजनाओं के बारे में जानकारी दी तथा प्रदेश के विकास से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर सलाह भी मांगी. 

आनंदीबेन पटेल ने राजभवन (Raj Bhawan) में सभी मंत्रियों से उनके सभी विभागों की जानकारी ली और उन्होंने कार्य और अधिक अच्छे से करने के लिए कुछ सुझाव भी दिए. इस दौरान राज्यपाल ने छोटी-छोटी बातों पर ध्यान आकर्षित करते हुए अपने अनुभव भी साझा किए. ये पहला मौका है कि जब किसी राज्यपाल (Governor) ने यूपी सरकार का प्रेजेंटेशन राजभवन में देखा है. हालांकि गुजरात (Gujarat) की पहली महिला मुख्यमंत्री रह चुकीं आनंदी बेन पटेल (Anandi Ben Patel) को कुशल सरकार चलाने का भी अच्छा अनुभव रहा है जिसका फायदा यूपी सरकार (UP government) को हो सकता है.

देखें लाइव टीवी

प्रेजेंटेशन के बाद राजभवन से बाहर निकले यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्या (Deputy CM Keshav Prasad Maurya) ने बताया कि आज राजभवन में सभी विभागों का प्रेजेंटेशन दिया गया और बताया गया कि सरकार ने इन ढाई सालों में कितनी योजनाओं को जमीन पर उतारा है और आगे के ढाई साल में सरकार क्या कुछ करेगी. जनता की भलाई के लिए इसका भी पूरा ब्यौरा दिया है.

राजभवन में प्रेजेंटेशन के बाद कुम्भ पुस्तक स्मारिका का विमोचन भी किया गया. इस दौरान यूपी सरकार के सभी कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार मंत्री और राज्य मंत्री राजभवन में मौजूद रहे. यूपी के डीजीपी ओ पी सिंह और मुख्य सचिव आर के तिवारी को भी राजभवन बुलाया गया था.