close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल पहुंची वृंदावन, चैतन्य महाप्रभु के चरण पादुका उत्सव में हुई शामिल

गौरतलब है कि इन दिनों चैतन्य महाप्रभु की चरण पादुकाएं चंद्रोदय मंदिर में हैं.

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल पहुंची वृंदावन, चैतन्य महाप्रभु के चरण पादुका उत्सव में हुई शामिल
अब बांकेबिहारी की नगरी में उनकी पादुकाएं पहुंची हैं. चैतन्य महाप्रभु की चरण पादुकाएं 25 अक्टूबर की शाम को नवद्वीप पश्चिम बंगाल वापस लौट जाएंगी.

कन्हैया लाल शर्मा/मथुरा: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल गुरुवार को चैतन्य महाप्रभु के चरण पादुका उत्सव में भाग लेने के लिए वृंदावन पहुंचीं. श्रीधाम वृंदावन में पहुंचकर राज्यपाल ने चरण पादुका उत्सव में भाग लिया. राज्यपाल पवनहंस हेलीपेड पर उतरीं थीं. इसके बाद उन्होंने राधा दामोदर मंदिर में ठाकुर राधा दामोदर के दर्शन किए. वृंदावन में अपने एक दिवसीय धार्मिक दौरे पर गुरुवार को पहुंचीं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने चंद्रोदय मंदिर में ठाकुरजी के दर्शन किए. वहीं ठाकुर राधा दामोदर मन्दिर में विराजित चैतन्य महाप्रभु की पादुकाओं के भी राज्यपाल ने दर्शन किए. राज्यपाल यहां कुछ देर रुकीं और उन्होंने यहां का धार्मिक इतिहास जाना. 

इसके बाद वह बांकेबिहारी मन्दिर पहुंचीं और ठाकुर बांके बिहारी के दर्शन व पूजन किया. राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अक्षयपात्र की रसोई का अवलोकन भी किया. वहीं, उन्होंने 25 स्कूली बच्चों को भोजन भी परोसा. अपनी धार्मिक यात्रा करने के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल राजधानी के लिए रवाना हो गईं.

गौरतलब है कि इन दिनों चैतन्य महाप्रभु की चरण पादुकाएं चंद्रोदय मंदिर में हैं. संस्था प्रमुख मधु पंडित दास ने बताया कि चैतन्य महाप्रभु की पादुकाएं नवद्वीप स्थित धामेश्वर मंदिर में विराजमान रहती हैं. ये पादुकाएं संन्यास ग्रहण करने से पूर्व चैतन्य महाप्रभु ने अपनी पत्नी देवी विष्णुप्रिया को भेंट की थीं. देवी विष्णुप्रिया ने जीवन भर इन पादुकाओं की सेवा की थी. चैतन्य महाप्रभु 504 वर्ष पहले वृंदावन आए थे. अब बांकेबिहारी की नगरी में उनकी पादुकाएं पहुंची हैं. चैतन्य महाप्रभु की चरण पादुकाएं 25 अक्टूबर की शाम को नवद्वीप पश्चिम बंगाल वापस लौट जाएंगी.