close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कृत्रिम बारिश कराएगी योगी सरकार, बुंदेलखंड से होगी शुरुआत

उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि सूखे की स्थिति में कृत्रिम बारिश कराई जाएगी. इसके लिए सरकार पूरी तरह से तैयार है.

कृत्रिम बारिश कराएगी योगी सरकार, बुंदेलखंड से होगी शुरुआत
(फोटो @dharampalbjpmla)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सिंचाई मत्री धर्मपाल सिंह का दावा है कि तमिलनाड़ु, कर्नाटक और महाराष्ट्र के बाद उत्तर प्रदेश में भी अब सूखा प्रभावित क्षेत्रों में कृत्रिम बारिश (आर्टिफिशियल रेन) कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि इस बड़ी समस्या का समाधान IIT कानपुर ने कर दिया है. अधिकारियों का दावा है कि 5 करोड़ रुपए में 1000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कृत्रिम बारिश कराई जा सकेगी. इसकी शुरुआत बुंदेलखंड से की जाएगी. 

IIT कानपुर की मदद से होगी कृत्रिम बारिश
योगी सरकार ने सूखा प्रभावित जिलों में कृत्रिम बारिश कराने की तैयारी कर ली है. इसकी तकनीक आईआईटी कानपुर ने विकसित की है. सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने बताया, 'मानसून खत्म होने के बाद बुंदेलखंड से कृत्रिम बारिश प्रोजेक्ट की शुरुआत होगी. सरकार ने इस तकनीक को चीन से खरीदने की थी, लेकिन बात नहीं बनी. हालांकि, शुरुआत में चीन इस तकनीक को 11 करोड़ रुपये में देने को तैयार हो गया था, लेकिन बाद में इंकार कर दिया.'

1000 वर्ग किलोमीटर में बारिश का खर्च 5 करोड़ रुपए
सिंह ने बताया कि इस बड़ी समस्या का समाधान आईआईटी कानपुर ने कर दिया है. 5 करोड़ रुपए में 1000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कृत्रिम बारिश कराई जा सकेगी. दरअसल, आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञ सरकार के सामने क्लाउड-सीडिंग (कृत्रिम बारिश) तकनीक का प्रजेंटेशन दे चुके हैं. क्लाउड-सीडिंग में प्राकृतिक गैसों का इस्तेमाल किया जाता है. इसके लिए आईआईटी कानपुर ने हेलीकॉप्टर समेत तमाम उपकरणों की खरीद भी कर ली है. कृत्रिम बारिश करने के लिए हेलीकॉप्टर की मदद ली जाएगी.

(इनपुट-आईएएनएस)