close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तिहाड़ की तर्ज पर सुरक्षा व्यवस्था से लैस होंगी UP की 72 जेल

DG जेल आनंद कुमार ने बताया कि विभाग के पास इन जेलों को हाईटेक बनाने के लिए 13 करोड़ का बजट है. इसका एक प्रस्ताव बना रहे हैं शासन को प्रेषित करेंगे शासन से मंजूरी के बाद इसमें बदलाव शुरू हो जाएंगे.

तिहाड़ की तर्ज पर सुरक्षा व्यवस्था से लैस होंगी UP की 72 जेल
प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के कई जिलों के जेल को हाईटेक बनाने के लिए प्रपोजल शासन में भेजा जा रहा है. इस प्रपोजल में जेल को तिहार के तर्ज पर हाईटेक जेल बनाने के लिए कई सारे बिंदुओं का जिक्र किया जाएगा. कई सारे नए टेक्नोलॉजी का उपयोग जेलों को हाईटेक बनाने के लिए किया जाएगा. प्रथम फेस में उत्तर प्रदेश के पांच जेल को चयनित किया गया है. अभी जेल विभाग के पास इन जेलों को हाईटेक बनाने के लिए 13 करोड़ का बजट है.

पहले फेस में 5 जेल बनेंगी हाईटेक
लगातार उत्तर प्रदेश के जेलों में सुरक्षा व्यवस्थाऔर  खामियों को ले कर उठ रहे सवाल को देखते हुए यह काफी सख्त कदम के रूप मे देखा जा रहा है. DG जेल आनंद कुमार ने बताया कि विभाग के पास इन जेलों को हाईटेक बनाने के लिए 13 करोड़ का बजट है. इसका एक प्रस्ताव बना रहे हैं शासन को प्रेषित करेंगे शासन से मंजूरी के बाद इसमें बदलाव शुरू हो जाएंगे. प्रथम फेस में हमने 5 जेल को चयनित किया है जो उत्तर प्रदेश के चार कोनों पर हैं. एक सेंटर में लखनऊ है और बाकी ईस्ट वेस्ट नार्थ साउथ में है.

सभी जेलों में होगी रेडियो स्टेशन की शुरुआत
जेल में नकारात्मक मानसिकता को दूर करने के लिए रेडियो स्टेशन को भी शुरुआत किया गया है. जो कि पूरी तरीके से जेल के कैदियों के द्वारा संचालित किया जा रहा है. मैनपुरी, आगरा, एटा, बिजनौर, गाजियाबाद, नोएडा, गोरखपुर में शुरू हो गए हैं जेल मे रेडियो स्टेशन.

लाइव टीवी देखें

आधुनिकीकरण से होगी जेल की सुरक्षा

- वीडियो वॉल्स के माध्यम से जेल कनेक्टेड होंगे
- जेल को ऑनलाइन किया जाएगा
- सारे सीसीटीवी कैमरों को इंटीग्रेट किया जाएगा
- ड्रोन कैमरा भी लगाया जाएगा
- दो लयर में सुरक्षा व्यवस्था लगाई जाएगी
- जेलों में डीप सर्च मेटल डिटेक्टर लगाए जाएगा 
- जेलों में पोल मेटल टेक्नोलॉजी को लगाया जाएगा 
- बॉडी स्कैनर टेक्नोलॉजी लगाने की योजना है

ये होंगे फायदें
इसके 3 फायदे हैं पहला जेल पर प्रशासनिक दबाव बनेगा, दूसरा जेल की व्यवस्था सुचारू रहने के लिए साइक्लोजिकल दबाव बनेगा और तीसरा जब हेडक्वार्टर से मॉनिटरिंग होगी तो जो भी कमी जेल में दिखेगी उसको पूरी की जाएगी.