कन्‍नौज बस हादसा: मृतकों की संख्‍या पहुंची 21, DNA टेस्‍ट से होगी शवों की पहचान

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने इस हादसे पर शोक जताया है और मृतकों को 2-2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान एलान किया है. 

कन्‍नौज बस हादसा: मृतकों की संख्‍या पहुंची 21, DNA टेस्‍ट से होगी शवों की पहचान

कन्नौज : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कन्नौज (Kannauj) में शुक्रवार को फर्रुखाबाद से जयपुर जा रही स्लीपर बस में ट्रक ने सामने से जोरदार टक्कर मार दी, जिससे ट्रक और बस मे तेज धमाके के साथ भीषण आग लग गई. इस हादसे में बस में सवार 21 लोगों की जलकर मौत हो गई. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने इस हादसे पर शोक जताया है और मृतकों को 2-2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान एलान किया है. साथ ही उन्‍होंने उन्होंने कन्नौज के डीएम और एसपी को घायल यात्रियों के उपचार के लिए हरसंभव कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.

बताया जा रहा है कि बस में करीब 45 लोग सवार थे. इस हादसे के बाद बस में लगी आग में उसमें सवार 21 सवारियों की जिंदा जलने से मौत हो गई. वहीं 25 से ज्‍यादा लोग इस हादसे में घायल हुए हैं, जिन्‍हें उपचार के लिए तिर्वा मेडिकल कॉलेज और जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है. यहां उनका उपचार जारी है. 

हादसे के तुरंत बाद उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने ज़ी मीडिया से कहा कि राहत कार्य और रेस्क्यू के निर्देश दिए हैं. हादसा दुखदाई है. यथासंभव मदद का प्रयास किया जा रहा है. हमारी पहली प्राथमिकता लोगों की जानें बचाना था. बस की आग पूरी तरह बुझ गई है. भीषण आग में पूरी तरह जल चुके शवों को पहचानने की कोशिश की जा रही है. इसके लिए डीएनए टेस्ट की मदद ली जाएगी. जांच टीमों को मौके पर भेजा गया है. वहीं, फारेंसिक टीम को मौके पर भेजा गया. 

 

यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि बस-ट्रक में से किसी एक में कोई ज्वलनशील पदार्थ था, जिसकी वजह से धमाके के साथ आग लगी. कानपुर एडीजी जोन प्रेमप्रकाश को मौके पर भेजा गया. 

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, छिबरामऊ से 5 किमी आगे जीटी रोड पर ग्राम घिलोई के पास कोहरे की वजह से यह भयानक हादसा हो गया. भिड़ंत में ट्रक का डीजल टैंक फटने से आग लग गई, जिसने बस को भी चपेट में ले लिया. थोड़ी ही देर में बस आग का गोला बन गई. हादसा इतना भयानक था कि स्लीपर बस में फंसे यात्रियों को निकलने तक का मौका नहीं मिल सका. किसी तरह लगभग एक दर्जन सवारियों ने कूदकर अपनी जान बचाई.

हादसा के बाद जीटी रोड पर यातायात पूरी तरह बाधित हो गया. वाहनों की लंबी कतारें लग गई. फायर बिग्रेड की कई गाड़ियां आग बुझाने के प्रयास में जुटी हैं.