close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खनन घोटाला: लखनऊ में IAS बी चन्द्रकला से ED की टीम ने की पूछताछ

इससे पहले सीबीआई ने उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में अवैध खनन के एक मामले में संदिग्धों से सोमवार को पूछताछ की थी.

खनन घोटाला: लखनऊ में IAS बी चन्द्रकला से ED की टीम ने की पूछताछ
फाइल फोटो

नई दिल्ली/लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के कार्यकाल में हुए हमीरपुर खनन घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय की टीम  IAS बी चंद्रकला से पूछताछ कर रही है. जानकारी के मुताबिक, लखनऊ में बुधवार सुबह से ईडी के ऑफिस में बी.चंद्रकला से पूछताछ जारी है. उन पर नियमों का उल्लंघन कर ठेका देने का आरोप है. इसके पहले सीबीआई की टीम उनके नोएडा स्थित घर की तलाशी भी ले चुकी है.

आपको बता दें कि इससे पहले सीबीआई ने उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में अवैध खनन के एक मामले में संदिग्धों से सोमवार को पूछताछ की थी. अधिकारियों ने यहां बताया कि पहले चरण में हमीरपुर में डेरा डाले हुई एजेंसी की टीम ने कई निजी व्यक्तियों और सरकारी अधिकारियों से पूछताछ की.

सीबीआई ने खनन लीज के आवंटन से संबंधित रिकॉर्डों और फाइलों का भी विश्लेषण किया। साल 2012-13 में अखिलेश यादव सरकार के दौरान राज्य की ई्-निविदा नीति का उल्लंघन कर इन खदानों का कथित तौर पर आवंटन किया गया. संघीय जांच एजेंसी ने आईएएस अधिकारी बी. चंद्रकला, समाजवादी पार्टी के पार्षद रमेश कुमार मिश्रा और संजय दीक्षित समेत 11 लोगों के खिलाफ अपनी प्राथमिकी के संबंध में जनवरी में 14 स्थानों पर छापे मारे थे.

ये है मामला
अवैध खनन का ये मामला सपा सरकारी में साल 2012 से 2016 के बीच का है. अवैध खनन के इस खेल का भंडाफोड़ करने के लिए 2016 में इलाहाबाद हाईकोर्ट में दो याचिकाएं दायर की गईं थीं. इन पर सुनवाई करते हुए 28 जुलाई 2016 को हाईकोर्ट ने जांच के आदेश दिए थे. हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की तो उसे साल 2012 से 2016 तक हमीरपुर जिले में बड़े पैमाने पर अवैध खनन के सबूत मिले. अवैध खनन से सरकार को बड़े पैमाने पर राजस्व की क्षति पहुंचाई गई थी. उस वक्त चर्चित आइएएस अधिकारी बी चंद्रकला हमीरपुर की जिलाधिकारी थीं. उन पर भी अवैध खनन में शामिल होने और मनमाने तरीके से खनन के पट्टे बांटने का आरोप हैं.